Jan १४, २०२२ ०८:३१ Asia/Kolkata
  • कश्मीर कड़ाके की ठंडक में मुसलमानों पर फिर पहाड़ टूटे, दश्कों पुराने घरों को गिरा दिया सरकार ने

जम्मू शहर के मुस्लिम जनजाति बहुल्य इलाके में जम्मू कश्मीर का प्रशासन बेदखली अभियान चला रहा है। इससे कई लोग प्रभावित हुए हैं, जिनमें दो माह के ऐसे बच्चे तक शामिल हैं जिनका अब तक नाम तक भी नहीं रखा गया है।

11 जनवरी मंगलवार को जम्मू विकास प्राधिकरण द्वारा दशकों से इलाके में रह रहे गुर्जर-बकरवाल जनजाति के कई सदस्यों के घर तोड़ दिए गए। प्रशासन का दावा है कि वह अवैध अतिक्रमण के ख़िलाफ़ मुहिम चला रहा है।

उसकी इस कार्यवाही केंद्रशासित प्रदेश की शीतकालीन राजधानी जम्मू में विरोध भड़क गया। जम्मू कश्मीर में भी इस कार्यवाही की व्यापक आलोचना हुई और इसके ख़िलाफ ग़ुस्सा देखा गया।

जेडीए, पुलिस और राजस्व विभाग के अधिकारियों ने इलाके में अचानक धावा बोल दिया और घरों को तोड़ दिया।

सोशल मीडिया पर वायरल हुए कार्यवाही के वीडियो में गुर्जर-बकरवाल महिलाओं को अधिकारियों के सामने रोते-गिड़गिड़ाते हुए अपने मकानों को छोड़ देने के लिए कहते देखा जा सकता है।

स्थानीय लोगों के मुताबिक, अनुसूचित जनजाति के कई सदस्य इलाके में दशकों से रह रहे हैं। जम्मू कश्मीर के अन्य गुर्जर-बकरवाल की तरह ही वे भी दूध और अन्य डेयरी उत्पाद बेचकर अपना गुज़ारा करते हैं।

एक युवा कार्यकर्ता ने बताया कि अनुच्छेद 370 हटने के बाद से इस तरह के बेदखली अभियानों के ज़रिये गुर्जरों और बकरवालों को लगातार जम्मू कश्मीर में प्रताड़ित किया जा रहा है।

जम्मू कश्मीर गुर्जर-बकरवाल युवा कॉन्फ्रेंस के मुख्य प्रवक्ता और राजनीतिक कार्यकर्ता गुफ़्तार चौधरी ने इस अभियान की भर्त्सना करते हुए ट्वीट किया है, ‘जम्मू में लोगों पर चयनात्मक कार्यवाही हो रही है जबकि भाजपा नेता निर्मल सिंह द्वारा क़ब्ज़ाई जमीन का क्या हुआ?

इस बीच जम्मू में ढेरों लोगों ने प्रदर्शन करके प्रभावित परिवारों को मुआवज़ा देने की मांग की. प्रदर्शनकारियों को अन्य समुदाय के नेताओं ने भी समर्थन दिया, जिनमें कांग्रेस नेता मुल्ला राम भी शामिल थे।

हाथ में तिरंगा थामे प्रदर्शनकारियों ने आरोप लगाया कि जेडीए क्षेत्र में जनजातीय लोगों को प्रताड़ित करने के लिए चुनिंदा कार्यवाही कर रहा है। एक आधिकारिक विज्ञप्ति में कहा गया है कि ज़मीन पर बने 17 कच्चे-पक्के मकानों को तोड़ा गया है। (AK)

 

हमारा व्हाट्सएप ग्रुप ज्वाइन करने के लिए क्लिक कीजिए

हमारा टेलीग्राम चैनल ज्वाइन कीजिए

हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब कीजिए!

ट्वीटर  पर हमें फ़ालो कीजिए

टैग्स