Jan २५, २०२२ ०९:०१ Asia/Kolkata
  • पाकिस्तान हिंदू काउंसिल का मोदी सरकार को पत्र, नया प्रस्ताव और मीडिया में नई बहस

पाकिस्तान में बसे हिंदुओं की संस्था पाकिस्तान हिन्दू काउंसिल ने भारत की मोदी सरकार को पत्र भेजकर प्रस्ताव रखा है कि हिन्दू, मुसलमान और सिख तीर्थयात्रियों को हवाई सेवा के ज़रिए आने दिया जाए।

भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव काफ़ी बढ़ा हुआ है और कई साल से संबंधों पर जमी बर्फ़ पिघलने का नाम नहीं ले रही है लेकिन इस बीच पाकिस्तान हिन्दू काउंसिल का प्रस्ताव एक अच्छी पहल माना जा रहा है।

भारत के अंग्रेज़ी अख़बार द हिन्दू की पहले पन्ने की लीड ख़बर के अनुसार, पाकिस्तान हिन्दू काउंसिल ने हिन्दू, मुसलमान और सिख तीर्थयात्रियों को हवाई सेवा के ज़रिए आने देने का प्रस्ताव रखा है। अख़बार की रिपोर्ट में सूत्रों के हवाले से बताया गया है कि दिल्ली स्थित पाकिस्तानी उच्चायोग ने पाकिस्तान हिन्दू काउंसिल के अध्यक्ष रमेश वाल्मीकि के इस प्रस्ताव को भारत के विदेश मंत्रालय के पास भेजा है।

अख़बार की रिपोर्ट के अनुसार, पाकिस्तान हिन्दू काउंसिल का यह प्रस्ताव सोमवार को मिला है और अभी इसे कई स्तरों पर मंज़ूरी मिलनी बाक़ी है। प्रस्ताव पर भारत के विदेश मंत्रालय की प्रतिक्रिया अभी सामने नहीं आई है।

डायरेक्टरेट जनरल ऑफ़ सिविल एविएशन (डीजीसीए) के एक सीनियर अधिकारी ने अख़बार से कहा है कि अभी तक उन्हें एयरलाइन से कोई अनुरोध नहीं मिला है।

भारत के अधिकारियों ने यह भी कहा कि पिछले साल नवंबर में पाकिस्तान ने श्रीनगर-शारजाह फ़्लाइट को अपने हवाई क्षेत्र से गुज़रने की अनुमति नहीं दी थी, इसके अलावा भारत ने पीआईए के प्लेन को दिसंबर में भारतीय तीर्थयात्रियों को ले जाने की अनुमति नहीं दी थी, अधिकारियों का कहना है कि इस प्रस्ताव पर दोनों देशों की ओर से राजनीतिक पहल की ज़रूरत है।

अगर पाकिस्तान हिन्दू काउंसिल के प्रस्ताव को भारत सरकार स्वीकार कर लेती है तो 2019 में दोनों देशों के बीच हवाई सेवा निलंबित होने के बाद पहली पीआईए फ़्लाइट भारत आएगी और ये 1947 के बाद दोनों तरफ़ से तीर्थयात्रियों को ले जाने वाली पहली फ़्लाइट होगी। अभी दोनों देशों के तीर्थयात्रियों के समूह 1974 के प्रोटोकॉल एक्सचेंज एग्रीमेंट के तहत वाघा-अटारी बॉर्डर से रोड के ज़रिए आते जाते हैं।

हमारा व्हाट्सएप ग्रुप ज्वाइन करने के लिए क्लिक कीजिए

हमारा टेलीग्राम चैनल ज्वाइन कीजिए

हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब कीजिए!

ट्वीटर  पर हमें फ़ालो कीजिए

टैग्स