May १८, २०२२ १७:३१ Asia/Kolkata
  • अतिवादी हिन्दुओं ने मस्जिद में लगाई आग

भारत के मध्य प्रदेश राज्य में मुस्लिम विरोधी भावनाओं की एक और घटना में, मंगलवार को हिंसक भीड़ ने नेमच शहर की एक मस्जिद में आग लगा दी।

भारतीय सूत्रों के अनुसार मूर्तियों को एक दरगाह की दीवार पर रखा गया था। घटना के बाद नेमच पुलिस ने इलाके में कर्फ्यू लगा दिया है।

सोशल मीडिया पर साझा किए गए वीडियो में भीड़ सड़कों पर हंगामा करती दिख रही है, क्योंकि कुछ दंगाइयों को हिरासत में लिया गया था।

पुलिस अधिकारियों ने पुष्टि की कि दंगाई मस्जिद में आग लगाने और मुस्लिम घरों पर पथराव करने में शामिल थे।

ट्विटर पर साझा किए गए एक अन्य वीडियो में, नेमच शहर के पुलिस अधीक्षक सूरज कुमार ने घटना का विवरण साझा किया।

दंगा प्रभावित इलाके में मीडिया को संबोधित करते हुए एसपी ने कहा कि इस इलाके के पास एक दरगाह है जहां हनुमान की मूर्ति स्थापित की गई थी  जिससे दोनों गुटों में विवाद हो गया। हमने इस मुद्दे पर चर्चा करने के लिए समूहों को नियंत्रण कक्ष में बुलाया था।

उन्होंने कहा कि कुछ युवकों ने पथराव किया जिससे कुछ वाहन क्षतिग्रस्त हो गए, लोगों को घर के अंदर रहने को कहा गया है। हमारे पास अभी स्टेशन पर पर्याप्त पुलिसकर्मी हैं। एसपी ने आगे कहा कि जो कोई भी असामाजिक गतिविधि में लिप्त पाया जाएगा  उसकी जांच की जाएगी।

ज्ञात रहे कि हिन्दू नववर्ष के अवसर पर हिन्दू संगठन ने बाइक पर जो रैली निकाली थी और उसके बाद जो हिंसा हुई थी उसमें मुसलमानों के कम से कम 40 मकानों को जला दिया गया था।

मुस्लिम मिरर की रिपोर्ट के अनुसार जुलूस के दौरान, बाइक पर सवार हिंदुत्व के गुंडों ने मुस्लिम विरोधी नारे लगाए और मुसलमानों के खिलाफ हिंसा भड़काने वाले गाने जोर से बजाए गए। जब वे मुस्लिम इलाके से गुजर रहे थे। ऐसे ही एक गाने में, चरमपंथी गायक “टोपी वाला सर झुकाके जय श्री राम बोलेगा” का नारा लगाते हैं (मुसलमान राम को प्रणाम करेंगे और जय श्री राम कहेंगे)।

शोचनीय बिन्दु यह है कि मुसलमानों के घरों में उस वक्त आग लगाई गयी जब कर्फ्यू लगाया गया था। युवा कांग्रेस के नेता नफीस अहमद ने मुस्लिम मिरर को बताया कि शनिवार शाम और रविवार दोपहर को राजस्थान पुलिस के पूर्ण समर्थन से दक्षिणपंथी हिंदुओं ने घरों को जला दिया।

नफीस अहमद ने पूछा कि स्थानीय एसएचओ ने हिंदू सेना को बाइक रैली की अनुमति देने से इनकार कर दिया था पर सवाल यह है कि उन्हें जुलूस की अनुमति किसने दी? उन्होंने कहा कि जाहिर तौर पर अनुमति खुद कलेक्टर ने दी थी जिन्होंने एसडीएम को मंजूरी दी थी। उन्होंने बताया कि रैली में हिंदू सेना के प्रदेश अध्यक्ष साहब सिंह गुर्जर मौजूद थे। MM

हमारा व्हाट्सएप ग्रुप ज्वाइन करने के लिए क्लिक कीजिए

हमारा टेलीग्राम चैनल ज्वाइन कीजिए

हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब कीजिए!

ट्वीटर पर हमें फ़ालो कीजिए

 

टैग्स