May २१, २०२२ ०७:५१ Asia/Kolkata
  • ज्ञानवापी के बाद गोडसे के जन्म दिन पर मेरठ की दो बड़ी मस्जिदों की खुदाई की मांग उठी

हिंदू महासभा ने महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे के जन्मदिन पर अपने कार्यालय में विशेष पूजा-अर्चना की और मेरठ शहर का नाम बदलकर ‘नाथूराम गोडसे नगर’ करने की मांग की।

हिंदू महासभा के प्रवक्ता अभिषेक अग्रवाल ने बताया कि संगठन के कार्यकर्ता शारदा रोड स्थित कार्यालय में गोडसे की जयंती मनाने के लिए एकत्रित हुए और ‘हिंदू विरोधी गांधीवाद’ को ख़त्म करने की शपथ ली।

उन्होंने दावा किया कि भारत जल्द ‘हिंदू राष्ट्र’ बनेगा। अग्रवाल ने मेरठ शहर का कथित संबंध गोडसे परिवार से होने का हवाला देते हुए शहर का नाम ‘नाथूराम गोडसे नगर’ करने की मांग की।

उन्होंने कहा कि शहर का नाम बदलने के लिए केंद्र सरकार को खुला पत्र भेजा गया है। अग्रवाल ने कहा कि 1989 के लोकसभा चुनाव में नाथूराम गोडसे के भाई गोपाल गोडसे ने मेरठ से चुनाव लड़ा था।

उन्होंने दावा किया कि मेरठ की मस्जिदों का निर्माण मंदिरों को तोड़कर किया गया है। उन्होंने मंदिर के अवशेष प्राप्त करने के लिए यहां की दो बड़ी मस्जिदों की खुदाई कराने की मांग की। अग्रवाल ने कहा कि जहां-जहां खुदाई होगी वहां महादेव प्रकट होंगे।

उन्होंने यह मांग वाराणसी के ज्ञानवापी परिसर में कथित शिवलिंग मिलने के दावे के बाद की है।

ज्ञात रहे कि इस सप्ताह की शुरुआत में हिंदु वकीलों ने दावा किया था कि अदालत द्वारा आदेशित सर्वेक्षण के दौरान मस्जिद में ‘वज़ूखाना’ जलाशय में पाया गया एक ढांचा ‘शिवलिंग’ है।

इससे पहले जनवरी में हिंदू महासभा ने महात्मा गांधी की पुण्यतिथि के मौके पर उनके हत्यारे नाथूराम गोडसे और गांधी की हत्या मामले में एक अन्य आरोपी नारायण आप्टे को श्रद्धांजलि दी थी। हिंदू महासभा ने इस दिन को गोडसे-आप्टे स्मृति दिवस के रूप में मनाया था।

पिछले साल नवंबर में हिंदू महासभा ने कहा था कि वह हरियाणा के अंबाला सेंट्रल जेल से लाई गई मिट्टी से नाथूराम गोडसे की प्रतिमा तैयार करेंगे। इसी जेल में 1949 में गोडसे को फांसी दी गई थी। (AK)

 

हमारा व्हाट्सएप ग्रुप ज्वाइन करने के लिए क्लिक कीजिए

हमारा टेलीग्राम चैनल ज्वाइन कीजिए

हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब कीजिए!

ट्वीटर पर हमें फ़ालो कीजिए

टैग्स