Aug ०८, २०२२ १९:२६ Asia/Kolkata

भारत में कांग्रेस पार्टी के नेता व सांसद राहुल गांधी ने कहा है कि तानाशाही सरकार के खिलाफ "करो या मरो" जैसे आंदोलन की जरूरत है।

राहुल गांधी ने सोशल मीडिया पर कहा कि आज हिंदुस्तान की तानाशाही सरकार के खिलाफ और देश की रक्षा के लिए एक और 'करो या मरो' जैसे आंदोलन की जरूरत है, अब समय आ गया है जब अन्याय के खिलाफ, बोलना ही होगा।

उन्होंने कहा कि वर्तमान सरकार के खिलाफ एक बार फिर 1942 की तरह आंदोलन छेड़े जाने की जरूरत है। राहुल गांधी ने यह बात ‘भारत छोड़ो आंदोलन’ की वर्षगांठ के मौके पर कही। इसके साथ ही उन्होंने केंद्र सरकार को ‘तानाशाह सरकार’ बताते हुए इसके खिलाफ एक और ‘करो या मरो’ जैसे आंदोलन की जरूरत बताई।

उन्होंने यह भी कहा कि तानाशाही, महंगाई और बेरोजगारी को भारत छोड़ना ही होगा। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष ने देश में बेरोजगारी बढ़ने से संबंधित एक ग्राफ का हवाला देते हुए ट्वीट किया कि ‘जरूरत: घर-घर रोजगार। असलियत: हर घर बेरोजगार।’

कांग्रेस नेता ने एक फेसबुक पोस्ट में कहा कि इतिहास का वो पन्ना जिसे कभी भुलाया नहीं जा सकता वो है 'भारत छोड़ो’ आंदोलन। 8 अगस्त 1942 को मुंबई से शुरू हुए इस आंदोलन ने अंग्रेजों की नींद उड़ा दी थी। अगस्त की उस शाम को मुंबई के गोवालिया टैंक मैदान में लोगों ने जुटना शुरू किया। गांधी जी ने ‘करो या मरो’ का नारा दिया।

इसके बाद हिंदुस्तान में अंग्रेजी हुकूमत का आखिरी अध्याय शुरू हो गया। राहुल गांधी के अनुसार अपनी जिन्दगी की परवाह किए बगैर लाखों देशवासी इस आंदोलन में कूद पड़े। इस आंदोलन में लगभग 940 लोग मारे थे और हज़ारों गिरफ्तारियां हुईं। उन्होंने कहा कि आज, भारत छोड़ो आंदोलन की वर्षगांठ पर मैं उन स्वतंत्रता सेनानियों को श्रद्धांजलि देता हूं, जिन्होंने देश की आज़ादी के लिए अपने प्राणों की आहुति दी थी। MM

हमारा व्हाट्सएप ग्रुप ज्वाइन करने के लिए क्लिक कीजिए

हमारा टेलीग्राम चैनल ज्वाइन कीजिए

हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब कीजिए!

ट्वीटर पर हमें फ़ालो कीजिए 

फेसबुक पर हमारे पेज को लाइक करें

 

टैग्स