Oct ०२, २०२२ १८:२० Asia/Kolkata
  • गांधी ज्यंती पर याद किए गए बापू

भारत की आज़ादी के लिए अपना जीवन समर्पित करने वाले महात्मा गांधी की जयंती हर साल 2 अक्टूबर को मनाई जाती है। इस मौक़े पर दुनिया के हर कोने में मौजूद भारतीय अपने राष्ट्रपिता को याद करता है।

इस बात में कोई शक नहीं है कि महात्मा गांधी की धरोहर, हिंसा और अहिंसा के एतिहासिक टकराव की याद दिलाती है। अहिंसा का पाठ दुनिया के लिए महात्मा गांधी का मूल्यवान पाठ है। महात्मा गांधी ने भारत को स्वतंत्रता दिलाने के लिए भरपूर प्रयास किया इसीलिए भारतीय जनता के निकट उनका विशेष स्थान है और उन्हें राष्ट्रपिता के रूप में याद करती है। महात्मा गांधी की 153वीं जयंती के मौक़े पर एक बार फिर भारत समते दुनिया ने बापू को याद किया। इस बीच भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 153वीं जयंती पर 2 अक्टूबर रविवार को राजघाट पर उन्हें श्रद्धांजलि दी। महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि देने से पहले नरेंद्र मोदी ने भी ट्वीट करके इस बार गांधी जयंती को बेहद ख़ास बताया। उन्होंने लोगों को गांधी जयंती का महत्व भी समझाया।

हुए एक ट्वीट में लिखा कि गांधी जयंती पर महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि। यह गांधी जयंती और भी ख़ास है क्योंकि भारत आज़ादी का अमृत पर्व मना रहा है। मैं लोगों से अपील करता हूं कि हमेशा बापू के आदर्शों पर चलें। मैं आप सभी से गांधी जी को श्रद्धांजलि के रूप में खादी और हस्तशिल्प उत्पाद ख़रीदने का भी आग्रह करता हूं। उल्लेखनीय है कि महात्मा गांधी का जन्म दो अक्तूबर 1869 को गुजरात के पोरबंदर में हुआ था। उनका पूरा नाम मोहनचंद करमचंद गांधी था। उनकी माता का नाम पुतलीबाई और पिता का नाम करमचंद गांधी था। गांधी जी महान सोच वाले एक साधारण व्यक्ति थे। एक साधारण से परिवार में जन्में महात्मा गांधी अपने विचारों के ज़रिए दुनियाभर में महान हो गए। उन्होंने दुनिया को सत्य और अहिंसा का पाठ पढ़ाया। (RZ)

हमारा व्हाट्सएप ग्रुप ज्वाइन करने के लिए क्लिक कीजिए

हमारा टेलीग्राम चैनल ज्वाइन कीजिए

हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब कीजिए!

ट्वीटर पर हमें फ़ालो कीजिए 

फेसबुक पर हमारे पेज को लाइक करें 

 

टैग्स