May ०३, २०२० २२:१३ Asia/Kolkata
  • इस्लामोफोबिक पोस्ट साझा करने के कारण तीन भारतीय निकाले गए संयुक्त अरब इमारात से

सोशल मीडिया पर इस्लामोफोबिक पोस्ट साझा करने के कारण संयुक्त अरब इमारात में तीन और भारतीयों को नौकरी से निकाल दिया गया।

भारतीय संचार माध्यमों के अनुसार शेफ रोहित रावत, स्टोरकीपर सचिन किन्निगोली और नकदी संरक्षक को उनके नियोक्ताओं (इंप्लॉयर) ने इस्लामोफोबिक पोस्ट साझा करने के कारण अपनी नौकरियों से निकाल दिया है। नकदी संरक्षक की पहचान उजागर नहीं की गई है।  अजादिया समूह के प्रवक्ता ने इस बात की पुष्टि की है कि रोहित को निलंबित कर दिया गया है और वह अनुशासनिक जांच का सामना कर रहा है। शारजा स्थित न्यूमिक्स ऑटोमेशन ने कहा है कि उन्होंने अपने स्टोरकीपर किन्नीगोली को अगले नोटिस तक निलंबित कर दिया है। वहीं दुबई स्थित ट्रांसगार्ड समूह का कहना है कि उन्होंने फेसबुक पर इस्लाम विरोधी संदेश लिखने के कारण अपने एक कर्मचारी को निकाल दिया है। यह फेसबुक अकाउंट विशाल ठाकुर के नाम पर है।

इससे पहले भी लगभग आधा दर्जन भारतीयों को सोशल मीडिया पर इस्लामोफोबिक पोस्ट साझा करने के कारण इसी तरह की कार्रवाई का सामना करना पड़ा था।  ऐसा तब हुआ है कि जब यूएई में मौजूद भारतीय राजदूत ने कुछ दिन पहले ही प्रवासियों को ऑनलाइन किसी भी तरह के उत्तेजक पोस्ट साझा करने से मना किया था।  20 अप्रैल को यूएई में भारतीय राजदूत पवन कपूर ने भारतीय प्रवासियों को इस तरह के व्यवहार के खिलाफ सख्त चेतावनी दी थी।  कपूर ने एक ट्वीट में कहा था, 'भारत और यूएई हर आधार पर गैर-भेदभाव के मूल्यों को साझा करते हैं। भेदभाव हमारे नैतिक ताने-बाने और कानून के नियम के खिलाफ है। यूएई में भारतीय नागरिकों को हमेशा यह बात याद रखनी चाहिए।

इसी बीच गल्फ न्यूज ने शविवार को लिखा कि ऐसा लगता है कि भारतीय मिशन की चेतावनी को अनुसना कर दिया गया। इसी कारण सोशल मीडिया पर इस्लामोफोबिया को लेकर टिप्पणी करके कार्रवाई का सामना करने वाले भारतीय प्रवासियों की सूची लगातार लंबी होती जा रही है।

टैग्स

कमेंट्स