Jul ०६, २०२० २०:२७ Asia/Kolkata
  • कुवैत में  8 लाख भारतीय नागरिकों पर लटकती तलवार, कोटा बिल के मसौदे को मिली मंज़ूरी, कभी भी निकाले जा सकते हैं

कुवैत में प्रवासी कोटा बिल के मसौदे को मंज़ूरी मिल गयी है, जिसके नतीजे में 8 लाख भारतीय नागरिकों को फ़ार्स की खाड़ी के इस देश को छोड़ना पड़ सकता है।

कुवैत के क़ानून के मुताबिक़, इस देश में भारतीय नागरिकों की तादाद, 15 फ़ीसद से ज़्यादा नहीं हो सकती। गल्फ़ न्यूज़ की रविवार की रिपोर्ट में यह बात कही गयी है।

कुवैत की कुल आबादी 43 लाख है, इसमें क़रीब 15 लाख भारतीय हैं और कुवैतियों की आबादी 13 लाख है।

रिपोर्ट के मुताबिक़, इस कोटा बिल को कुवैत की नैश्नल असेंबली की क़ानूनी और विधायी समिति की ओर से मंज़ूरी मिल गयी है। बिल के मुताबिक़, कुवैत में भारतीय नागरिकों की तादाद, कुवैत की कुल आबादी के 15 फ़ीसद से ज़्यादा नहीं होनी चाहिए। इस बिल के क़ानून बनते ही 8 लाख भारतीय नागरिकों को कुवैत छोड़ना पड़ सकता है, क्योंकि इस देश में भारतीय नागरिकों की आबादी 14.5 लाख है।

कोरोना वायरस की महामारी के बाद कुवैत में विदेशी नागरिकों की तादाद कम करने के मुद्दे पर सांसदो और सरकारी अधिकारियों के बीज बहस तेज़ होती जा रही है। पिछले महीने कुवैत के प्रधान मंत्री शैख़ सबा अलख़ालिद अस्सबा ने प्रवासियों की तादाद 70 फ़ीसद से घटा कर 30 फ़ीसद करने का प्रस्ताव दिया था।(MAQ/N)

 

कमेंट्स