Sep २७, २०२० २०:४६ Asia/Kolkata
  • आर्टिकल 370 ख़त्म करके मोदी ने गांधी के भारत पर कश्मीरियों के भरोसे को तोड़ दिया, अब वे चीनी शासन का स्वागत करने के लिए तैयार हैं, अब्दुल्लाह

जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री और नेशनल कॉन्फ्रेंस के प्रमुख फ़ारूक़ अब्दुल्लाह द वायर के साथ इंटरव्यू में कहा है कि 5 अगस्त 2019 को मोदी ने आर्टिकल 370 ख़त्म करके कश्मीरी नागरिकों के उस भरोसे को तोड़ा है, जो उन्होंने गांधी के भारत पर किया था।

उन्होंने कहा कि मोदी सरकार द्वारा कश्मीरियों के साथ किए गए विश्वासघात के बाद, अब कश्मीरी ख़ुद को भारतीय नागरिक नहीं समझते हैं और वे भारतीय रहना भी नहीं चाहते हैं।

उन्होंने यहां तक कहा कि मोदी के भारत में रहने के बजाय, अब कश्मीरी चीनी शासन का स्वागत करने के लिए तैयार हैं।

मशहूर पत्रकार करण थापर के साथ इंटरव्यू में नेशनल कॉन्फ्रेंस के प्रमुख अब्दुल्लाह का कहना था कि हम हमेशा भारत का समर्थन करते रहे, क्योंकि हमने गांधी के भारत पर भरोसा करते हुए पाकिस्तान को ठुकरा दिया था, लेकिन भारत में अब इन्हीं कश्मीरियों के साथ ग़ुलामों जैसा बर्ताव किया जा रहा है और उन्हें दोयम दर्जे का नागरिक समझा जा रहा है।

द वायर को दिए इस 44 मिनट के साक्षात्कार में अब्दुल्ला ने कहा कि भाजपा का यह कहना बिल्कुल निरर्थक है कि कश्मीर के लोगों ने अगस्त 2019 में हुए बदलावों को स्वीकार कर लिया है, वह भी सिर्फ़ इसलिए कि वहां कोई प्रदर्शन नहीं हुए।

उन्होंने कहा कि कश्मीर की हर सड़क और गली में बंदूक़ ताने सैनिक खड़े हैं, अगर उन्हें एक मिनट के लिए भी हटा लिया जाए तो लाखों की संख्या में लोग सड़कों पर निकल पड़ेंगे।

उन्होंने मोदी सरकार पर आरोप लगाया कि वह घाटी को हिंदुओं से भर देने और हिंदुओं को बहुमत में लाने का प्रयास कर रही है, जिससे कश्मीरियों में भारी रोष पाया जाता है। msm

टैग्स

कमेंट्स