Nov १७, २०२० २०:३२ Asia/Kolkata
  • भारत किस राह पर जा रहा है?  पहले दाढ़ी और अब टोपी से पुलिसकर्मी की नौकरी खतरे में!

भारत के असम राज्य में पुलिस विभाग ने एपीआरओ के एक मुस्लिम सब इंस्पेक्टर को मुअत्तल कर दिया है और कहा है कि उसने वर्दी  कोड का उल्लंघन किया है जो बड़ा अपराध है।

     मुअत्तल किये गये एसआई का नाम मोहम्मद शौकर अली बताया गया है और सोशल मीडिया पर लोग बड़े पैमाने पर इस खबर पर प्रतिक्रिया प्रकट कर रहे हैं।

     समाचार पत्र सियासत ने अपनी रिपोर्ट में बताया है कि एडीजी एस एन सिंह ने बताया है कि टोपी पहने शौकत का फोटो एमंगोन में खींची गयी थी जहां वह नमाज़ के बाद टोपी उतारना भूल गये थे। उन्होंने बताया कि वह एक ईमानदार पुलिसकर्मी थे।

     वर्दी कोड के उल्लंघन के आरोप में मुअत्तल शौकत को अब देसपुर में मैसेज कोआर्डिनेशन सेन्टर में भेजा गया है।

     पुलिस विभाग के अनुसार शौकत के खिलाफ असम पुलिस एक्ट 2007 की दफा 65 के तहत असम पुलिस के नियम 66 और भारतीय संविधान के आर्टिकल 311 को लागू किया गया है।

     सोशल मीडिया पर लोग इस पर गुस्सा प्रकट कर रहे हैं और कह रहे हैं कि भूल से की जाने वाली गलती की यह बहुत बड़ी सज़ा है।

Image Caption

 

     याद रहे इस से पहले इसी तरह की एक घटना में भाजपा के ही अन्य राज्य यूपी में एक मुस्लिम पुलिसकर्मी को इस लिए मुअत्तल कर दिया गया था क्योंकि उसने दाढ़ी रखी थी।

     यूपी में संबंधित अधिकारियों ने बताया था कि अली को दाढ़ी रखने के लिए अनुमति लेने का तीन बार आदेश दिया गया था लेकिन फिर उन्हें आदेश न मानने की वजह से पुलिस फोर्स से हटा दिया गया था।

      कुछ दिनों पहले एएमयू से डिग्री लेने वाली गज़ाला अहमद ने बताया था कि एक हिन्दी समाचार पोर्टल में इन्टर्व्यू के बाद उनसे कहा गया था कि उन्हें अपना स्कार्फ उतारना होगा तभी उनको नौकरी मिलेगी।Q.A.

ताज़ातरीन ख़बरों, समीक्षाओं और आर्टिकल्ज़ के लिए हमारा फ़ेसबुक पेज लाइक कीजिए!

हमारा व्हाट्सएप ग्रुप ज्वाइन करने के लिए क्लिक कीजिए

हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब कीजिए!

इंस्टाग्राम पर हमें फ़ालो कीजिए

 

           

 

टैग्स