Mar ०८, २०२१ १३:५४ Asia/Kolkata
  • किसान आंदोलनः पश्चिम बंगाल में किसानों से मिलने की तय्यारी, उसके बाद गुजरात का रूख़, मध्य प्रदेश में किसान यूनियन की 3 रैलियों का प्रोग्राम

किसान नेता राकेश टिकैत 13 मार्च को पश्चिम बंगाल के किसानों से मिलने जा रहे हैं।

तीन कृषि क़ानूनों के ख़िलाफ़ किसानों के जारी आंदोलन के बीच, किसान नेता राकेश टिकैत 13 मार्च को पश्चिम बंगाल जाने वाले हैं। उन्होंने इस बात के मद्देनज़र कि पश्चिम बंगाल विधान सभा चुनाव के प्रचार के लिए भाजपा के कई नेता पश्चिम बंगाल गए हुए हैं, कहा कि सरकार आज कल पश्चिम बंगाल जा रही है, हम सरकार से वहीं मिलेंगे।

उन्होंने मीडिया से बात करते हुए कहाः “आज कल सरकार कोलकाता गई है, हम भी 13 तारीख़ को पश्चिम बंगाल जाएंगे। बड़ी महापंचायत है वहाँ, सरकार से वहीं मिलेंगे।”

किसान नेता ने कहा कि हम वहाँ जाकर किसानों से बात करेंगे। उनसे पूछेंगे कि एमएसपी पर ख़रीद हो रही है या नहीं। अपनी बात बताएंगे, इस आंदोलन के बारे में समझाएंगे, उनकी बात सुनेंगे, इससे उन्हें क्या दिक़्क़त हैॽ टिकैत ने कहा कि जो किसान वहाँ मछली पालता है उसे भी बहुत नुक़सान हुआ है। इसके बाद गुजरात भी जाएंगे, वहाँ का किसान भी बर्बाद हो गया है।

राकेश टिकैत ने कहाः “मोदी ने ही कहा था अपनी फ़सल कहीं भी बेच दो तो अब संसद के बाहर बेचेंगे फ़सल। पीएम ने कहा था कि आप मंडी के बाहर कहीं भी बेच सकते हो, तो हमें संसद में ठीक लग रहा है, वहीं बेचेंगे।”

किसान नेता ने कहा जब तक 3 नए कृषि क़ानून ख़त्म नहीं होते, तब तक उनका आंदोलन जारी रहेगा। किसान नेता ने कहा कि किसानों की मांग है कि तीनों कृषि क़ानून पूरी तरह से वापस लिए जाएं और जब तक सरकार उनकी मांगे नहीं मानती, तब तक आंदोलन जारी रहेगा।

वहीं भारतीय किसान यूनियन मध्यप्रदेश में 8 से 15 मार्च के बीच 3 रैलियां करने जा रहा है। (MAQ/N)

हमारा व्हाट्सएप ग्रुप ज्वाइन करने के लिए क्लिक कीजिए

हमारा टेलीग्राम चैनल ज्वाइन कीजिए

हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब कीजिए!

ट्वीटर पर हमें फ़ालो कीजिए

टैग्स