Apr २२, २०२१ २०:५७ Asia/Kolkata
  • भारत ने दी अमरीका को धमकी, कहा हस्तक्षेप न करो

भारत ने अमरीका को सचेत किया है कि वह नई दिल्ली के आंतरिक मामलों में बिल्कुल भी हस्तक्षेप न करे।

रोएटर्ज़ के अनुसार भारत के विदेशमंत्री एस जैशंकर ने अमरीकी सरकार के उस प्रतिनिधिमण्डल की भारत यात्रा की मांग को अस्वीकार कर दिया है जो इस देश में विभिन्न धर्मों के लोगों के जीवन की समीक्षा के लिए भारत आना चाहता है।

भारत के विदेशमंत्री ने कहा है कि उनका देश अपने आंतरिक मामलों में विदेशी हस्तक्षेप या विदेशी फैसले को स्वीकार नहीं करता।  जै शंकर के अनुसार भारतीय नागरिकों के अधिकारों के बारे में नई दिल्ली, किसी भी विदेशी संस्था विशेषकर अमरीकी संस्था के विचारों को पसंद नहीं करता।  उनको इस बारे में कुछ कहने का अधिकार नहीं है।

उल्लेखनीय है कि मानवाधिकारों की आड़ में दूसरे देशों के आंतरिक मामलों में अमरीकी हस्तक्षेप एसी स्थिति में जारी है कि जब अमरीका में रहने वाले काले लोगों को तरह-तरह की समस्याओं का समाना करना पड़ रहा है।  इसका स्पष्ट उदाहरण अमरीकी पुलिस के हाथों जार्ज फ़्लाइड की हत्या है जिसे कारण पूरे विश्व में अमरीका की बदनामी हो रही है।

ज्ञात रहे कि अमरीकी कमीशन ने भारत में अल्पसंख्यकों के साथ हो रहे दुर्व्यवहार और धार्मिक स्वतंत्रता की ख़िलाफ़वर्ज़ी के दृष्टिगत लगातार दूसरे साल भारत को ब्लैक लिस्ट में डालने की सिफारिश की है।  अपनी नई वार्षिक रिपोर्ट में कमीशन ने कहा है कि भारत में धार्मिक स्वतंत्रता के संबंध में नकारात्मक रवैया जारी है।  इस रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की सरकार ने हिन्दूवादी नीतियों को बढ़ावा दिया है जिसके नतीजे में धार्मिक स्वतंत्रता का नियमित उल्लंघन हुआ है।  रिपोर्ट के अनुसार भारत सरकार विरोधियों की आवाज़ को दबा रही है और भारत के सबसे बड़े राज्य उत्तर प्रदेश सहित पूरे देश में धर्मों के बीच विवाह पर प्रतिबंधों में वृद्धि पर भी चिंता जताई गई है।

टैग्स