Jun २३, २०२१ ०९:३५ Asia/Kolkata
  • इस्लामी सरकार जनता की सेवक होती है मालिक नहीं, पवित्र नगर मशहद पहुंचे ईरान के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति ने दिए कई अहम संदेश

ईरान के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति ने कहा है कि इस्लामी सरकार जनता की सेवा के लिए होती है। उन्होंने कहा कि इस्लामिक सरकार के सभी अधिकारियों को ख़ुद को जनता का सेवक समझना चाहिए।

प्राप्त रिपोर्ट के मुताबिक़, ईरान के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति सैयद इब्राहीम रईसी मंगलवार को पवित्र नगर मशहद अपनी पहली यात्रा पर पहुंचे। उन्होंने सबसे पहले पैग़म्बरे इस्लाम (स) के पौत्र हज़रत इमाम अली रज़ा अलैहिस्सलाम के पवित्र रौज़े पर पहुंचकर ज़ियारत की और इमाम रज़ा (अ) के शुभ जन्म दिवस पर ईरानी राष्ट्र सहित पूरी दुनिया के मुसलमानों को मुबारकबाद दी। सैयद इब्राहीम रईसी ने इस मौक़े पर कहा कि, अगर कोई चाहता है कि ईश्वर उससे ख़ुश रहे तो उसे ईश्वर की ख़ुशी हासिल करने के लिए सबसे पहले लोगों को ख़ुश करना पड़ेगा। उन्होंने कहा कि, अधिकारियों को चाहिए कि वह लोगों के साथ प्रेम से पेश आएं, जनता के सामने अपने स्वभाव को सेवकों वाला रखें मालिकों वाला नहीं। सैयद रईसी ने कहा कि जो लोग जनता से प्रेम करते हैं उनका आदर करते हैं, ऐसे लोगों पर ईश्वर अपनी अनुकंपा बनाए रखता है। उन्होंने कहा कि, देश के किसी भी कोने में जो कोई भी जनता की सेवा कर रहा है उससे यह पता होना चाहिए कि वह लोगों की गरिमा का पूरा ध्यान रखे, क्योंकि उसे थोड़ा सा भी यह अधिकार नहीं पहुंचता है कि वह जनता की गरिमा को हल्का सा भी नुक़सान पहुंचाए।

ईरान के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति सैयद इब्राहीम रईसी ने मशहद में लोगों को संबोधित करते हुए इस बात पर बल दिया कि, अर्थव्यवस्था में हमारी प्राथमिकता न्याय पर ध्यान देना होना चाहिए। उन्होंने कहा कि, देश में बदलाव होना चाहिए, ऐसा बदलाव जो लोगों के हित में हो, इस्लामी क्रांति के मूल्यों के पक्ष में हो, लोगों के दस्तरख़ान में बरकत का कारण हो और ऐसा बदलाव जिससे लोगों को रोज़गार मिले, यह सब वह बदलाव हैं जो देश की जनता चाहती है। उन्होंने कहा कि हम अपनी सरकार में इस बात का प्रयास करेंगे कि ऐसे सभी बदलाव लाएं जो जनता के हित में हों। रईसी ने कहा कि मैं इस राष्ट्र के प्रतिनिधि के रूप में कभी इस बात की इजाज़त नहीं दूंगा कि राष्ट्र का कोई भी अधिकार मारा जाए। उन्होंने कहा कि देश की गरिमा बनाए रखने और अर्थव्यवस्था ठीक रखने के लिए जो सबसे महत्वपूर्ण मंत्र है वह है आर्थिक न्याय, यानी क्षमता और सुविधाओं का बंटवारा न्याय पर आधारित होना। नवनिर्वाचित राष्ट्रपति ने यह भी बताया कि नई सरकार कोरोना से कैसे मुक़ाबला करेगी। उन्होंने कहा कि हम जल्द से जल्द सामान्य कोरोना टीकाकरण आरंभ कर देंगे।

ग़ौरतलब है कि ईरान के 13वें राष्ट्रपति पद के चुनाव को लेकर 18 जून को हुए मतदान में सैयद इब्राहीम रईसी लगभग 1 करोड़ 80 लाख वोटों को पाकर ईरान के 8वें राष्ट्रपति चुने गए हैं। (RZ)

हमारा व्हाट्सएप ग्रुप ज्वाइन करने के लिए क्लिक कीजिए

हमारा टेलीग्राम चैनल ज्वाइन कीजिए

हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब कीजिए!

ट्वीटर  पर हमें फ़ालो कीजिए

टैग्स