Aug ०२, २०२१ १५:०१ Asia/Kolkata
  • इस्राईली टैंकर पर हमले का आरोप ईरान पर लगाकर, तेहरान के ख़िलाफ़ नया जाल बिछाने की साज़िश

ओमान सागर में गुरुवार को एक इस्राईली टैंकर पर हुए हमले का आरोप, ईरान पर मढ़ने के लिए अब अमरीका और ब्रिटेन ने भी ज़ायोनी शासन की आवाज़ में आवाज़ मिलाना शुरू कर दी है।

अमरीकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकेन ने रविवार को दावा किया कि प्राप्त जानकारी की समीक्षा से हमें यह विश्वास है कि यह हमला ईरान ने किया है, जिसमें दो निर्दोष लोगों की मौत हो गई है।

ब्लिंकेन का कहना था कि वे तथाकथित उचित प्रतिक्रिया के लिए अपने सहयोगियों के साथ मिलकर काम कर रहे हैं।

इससे पहले ब्रिटिश विदेश मंत्री डॉमिनिक राब ने दावा किया था कि ईरान ने एक या अधिक ड्रोन विमानों का उपयोग करके ग़ैरक़ानूनी और कठोर हमला किया है।

उन्होंने कहा कि हमें यक़ीन है कि यह हमला, जानबूझकर, लक्षित और ईरान द्वारा अंतरराष्ट्रीय क़ानून का स्पष्ट उल्लंघन है, लंदन इस पर ठोस प्रतिक्रिया के लिए अपने सहयोगियों के साथ काम कर रहा है।

रविवार को ईरान ने इन आरोपों को सख़्ती से ख़ारिज करते हुए हमले में किसी भी तरह की संलिप्तता से इनकार किया है।

ईरान के विदेश मंत्रालय ने इन आरोपों को बचकाना बताया और कहा कि यह अमरीका में ज़ायोनी लॉबी से प्रभावित हैं।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने एक बयान जारी करके कहाः हमें ज़ायोनी शासन द्वारा बिछाए गए जाल में नहीं फंसने के लिए बहुत होशियार रहना चाहिए, क्योंकि इस्राईल अपने अवैध जीवन के सबसे कठिन दौर से गुज़र रहा है।

जिस जहाज़ को निशाना बनाया गया है वह इस्राईली कंपनी जोडियाक मैरिटाइम द्वारा संचालित किया जा रहा था। रिपोर्टों के अनुसार, यह जहाज़ तंज़ांनिया के दारुस्सलाम से यूएई की फ़ुजैरा बंदरगाह के रास्ते में था।

ज़ायोनी प्रधान मंत्री नफ़्ताली बेनेट ने तेहरान पर हमले की ज़िम्मेदारी से बचने के प्रयास का आरोप लगाया है।

रविवार को अपने मंत्रिमंडल की साप्ताहिक बैठक में कहाः मैं स्पष्ट रूप से घोषणा करता हूं कि ईरान ने जहाज़ पर हमला किया है।

शुक्रवार को इस्राईली कंपनी ने कहा था कि जहाज़ पर हमले में चालक दल के दो कर्मचारी मारे गए हैं, जिनमें से एक एक ब्रिटिश और दूसरा रोमानियाई था।

रविवार को इस्राईली अख़बार कान ने दावा किया था कि वाशिंगटन और लंदन ने इस हमले का जवाब देने के लिए इस्राईल को ग्रीन सिगनल दे दिया है। msm

टैग्स