Aug ०५, २०२१ ०९:०७ Asia/Kolkata
  • फ़ार्स की खाड़ी में होने वाली संदिग्ध घटनाओं पर ईरान ने दी चेतावनी, समुद्र में जारी गंदे खेल को बंद करो नहीं तो नतीजा भुगतने के लिए हो जाओ तैयार

फ़ार्स की खाड़ी में हालिया कुछ समय से होने वाली संदिग्ध घटनाओं को लेकर ईरान ने सुरक्षा परिषद को एक पत्र लिखतर कड़ी चेतावनी दी है।

समाचार एजेंसी इर्ना की रिपोर्ट के मुताबिक़ ईरान की राजदूत और संयुक्त राष्ट्र संघ में उप प्रतिनिधि ज़हरा इरशादी ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के प्रमुख को एक पत्र लिखकर हालिया कुछ समय में  फ़ार्स की खाड़ी और उसके आसपास समुद्र में होने वाली संदिग्ध घटनाओं के संबंध में चेतावनी दी है। ईरानी राजदूत ने सुरक्षा परिषद से मांग की है कि वह इस तरह की ग़ैर ज़िम्मेदाराना और हानिकारक संदिग्ध घटनाओं पर लगाम लगाने के लिए आगे आए। उन्होंने कहा कि इस तरह की घटनाओं से क्षेत्र की शांति व स्थिरता को भारी नुक़सान पहुंचने की आशंका है। ईरान ने सुरक्षा परिषद के प्रमुख को लिखे गए पत्र के ज़रिए ब्रिटेन,रोमानिया और लाइबेरिया के सभी दावों को बेबुनियाद बताते हुए खारिज कर दिया है।

ईरान द्वारा सुरक्षा परिषद के प्रमुख के नाम लिखे पत्र में कहा गया है कि ब्रिटेन, रोमानिया और लाइबेरिया ने अपने दावों को साबित करने के लिए कोई सबूत दिए बिना अनिश्चितता के कारण "बहुत संभावना", "प्रारंभिक आकलन" और "एक या अधिक ड्रोन" जैसे शब्दों का सहारा लिया है। उन्होंने अस्पष्ट शब्दों का भी इस्तेमाल किया है जैसे "अंतर्राष्ट्रीय साझेदार" और इन सबका सहारा लेते हुए मिरसिर स्ट्रीट नामक जहाज़ पर हुए हमले का आरोप मनमाने ढंग से इस्लामी गणतंत्र ईरान पर लगाने का प्रयास कर रहे हैं। संयुक्त राष्ट्र में ईरान के राजदूत और उप प्रतिनिधि द्वारा लिखे गए पत्र में कहा गया है कि "यह निराधार आरोप जो पहली बार हमले के तुरंत बाद लगाया गया है यह पूरी तरह साफ़ है कि इसे स्पष्ट राजनीतिक उद्देश्यों के साथ इस्राईल द्वारा लगाया गया है।

ईरान द्वारा सुरक्षा परिषद के प्रमुख के नाम लिखे गए पत्र में यह भी साफ़ शब्दों में कहा गया है कि हालिया दिनों में जिस तरह अवैध ज़ायोनी शासन के अधिकारियों द्वारा भड़काऊ बयान दिए गए हैं वह संयुक्त राष्ट्र संघ के चार्टर के अनुच्छेद 2 का घोर उल्लंघन है। इसलिए यह ज़रूरी है कि इस अवैध शासन को यह बताया जाए कि उसे अपने सभी कारनामों और संभावित ग़लत अनुमानों के परिणामों की प्रतीक्षा करनी चाहिए। पत्र के माध्यम से तेहरान ने चेतावनी भी दै हि कि ईरान अपनी संप्रभुता अपने राष्ट्र के हितों और देश की जनता की रक्षा के लिए किसी भी हर तरह के आवश्यक क़दम उठाने में बिल्कुल संकोच नहीं करेगा। ग़ौरतलब है कि संयुक्त राष्ट्र में ईरान की राजदूत और उप प्रतिनिधि ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के प्रमुख के नाम लिखे गए पत्र को सुरक्षा परिषद के दस्तावेज़ के रूप में प्रकाशित करने के लिए भी कहा है। (RZ)

हमारा व्हाट्सएप ग्रुप ज्वाइन करने के लिए क्लिक कीजिए

हमारा टेलीग्राम चैनल ज्वाइन कीजिए

हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब कीजिए!

ट्वीटर  पर हमें फ़ालो कीजिए

टैग्स