Oct १९, २०२१ १६:५० Asia/Kolkata

....ईरान की आर्म्ड फ़ोर्सेज़ के जनरल स्टाफ़ के चीफ़ जनरल बाक़ेरी रूस के दौरे पर हैं और मास्को में उन्होंने ईरान की अलग अलग संस्थाओं के अधिकारियों से मुलाक़ात की। उनका कहना था कि बहुत से क्षेत्रीय और अंतर्राष्ट्रीय मुद्दों में ईरान और रूस की नीतियों की समानताएं आपसी संबंधों और सहयोग के विस्तार की अच्छी भूमिका हैं।

उनका कहना था कि हर क्षेत्र में सहयोग बढ़ना चाहिए।....जनरल बाक़ेरी का कहना था कि पारस्परिक संबंधों का दीर्घकालिक रोडमैप मौजूद न होना आपसी सहयोग के लिए नुक़सानदेह है। उन्होंने ईरान के दूतावास से कहा कि वह एक मज़बूत रोडमैप तैयार करके पेश करे।.....जनरल बाक़ेरी का कहना था कि हमारे देश में एक चीज़ की कमी है कि बहुत सारे क्षेत्रों के लिए हमारे पास रोडमैप नहीं है। इससे आपसी सहयोग के विस्तार की प्रक्रिया को नुक़सान पहुंचता है।

अलग अलग सरकारें सत्ता में आती हैं और अपनी अपनी पसंद के हिसाब से नीति तय करती हैं जिससे अनिश्च की स्थिति पैदा होती है और दूसरे देशों को यह महसूस होता है कि इस देश के पास व्यवस्थित कार्यक्रम नहीं है। चीन के साथ 25 वर्षीय समझौता एक अच्छा अनुभव है।

जनरल बाक़ेरी ने अमरीका और पश्चिमी देशों के विस्तारवाद के मुक़ाबले में ईरान की दृढ़ता को प्रशंसनीय बताया और कहा कि हमारी आर्म्ड फ़ोर्सेज़ इन्हीं पाबंदियों के दौर में हैरत अंगेज़ सफलताएं हासिल करने में कामयाब हुईं और रक्षा क्षेत्र में उन्होंने देश को आत्म निर्भर बना दिया।.....जनरल बाक़ेरी का कहना था कि पाबंदियों को नाकाम बनाने का यह तरीक़ा है कि हमारी इकानोमी आत्म निर्भर हो और हमें इस की चिंता न रहे कि पाबंदियां हटेंगी या नहीं। मास्को में ईरान के राजदूत काज़िम जलाली का कहना था कि रक्षा, सुरक्षा और राजनैतिक क्षेत्रों में तो रूस से हमारे संबंध बहुत अच्छे हैं लेकिन आर्थिक और वैज्ञानिक क्षेत्रों में संबंधो में विस्तार की ज़रूरत है।.... काज़िम जलाली ने कहा कि हर पहलू से हम दुरुस्त ढंग से आगे बढ़ रहे हैं बस दो क्षेत्र एसे हैं जहां ज़्यादा काम करने की ज़रूरत है एक सांस्कृतिक और वैज्ञानिक क्षेत्र और दूसरे आर्थिक क्षेत्र। ईरानी संस्थाओं के अधिकारियों ने भी दोनों देशों के आपसी संबंधों के मज़बूत पहलुओं और उन बिंदुओं की बात की जहां काम करने की ज़रूरत है।

जनरल बाक़ेरी के साथ ईरानी संस्थाओं के अधिकारियों की मास्को में होने वाली इस दोस्ताना मुलाक़ात का मक़सद ईरान रूस संबंध के विस्तार के मार्ग मे मौजूद रुकावटों को दूर करना था।  मास्को से आईआरआईबी के लिए सैयद अली दाराबी की रिपोर्ट     

 

टैग्स