Oct २५, २०२१ ०१:२० Asia/Kolkata
  • इस्राईल को दसियों हज़ार अरब डॉलर विशेष करना चाहिये, उसे ईरान के कड़े जवाब की प्रतीक्षा में रहना चाहियेः अली शमख़ानी

ईरान की सर्वोच्च राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद के सचिव ने कहा है कि इस्राईली अधिकारियों को ज़ायोनी शासन के पुनर्निर्माण के लिए बजट विशेष करना चाहिये।

समाचार एजेन्सी तसनीम की रिपोर्ट के अनुसार ईरान की सर्वोच्च राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद के सचिव अली शमखानी ने उस ख़बर पर प्रतिक्रिया दिखाई है जिसमें कहा गया है कि इस्राईल ने ईरानी विरोधी कार्यवाहियों के लिए डेढ़ अरब डालर विशेष किया है। उन्होंने कहा कि जायोनी अधिकारियों को ईरान विरोधी कार्यवाहियों के बजाये इस्राईल के पुनर्निर्माण के लिए बजट विशेष करना चाहिये।

श्री अली शमख़ानी ने अपने आज के ट्वीट में लिखा है कि जायोनी अधिकारियों को ईरान विरोधी कार्यवाहियों के लिए डेढ़ अरब डालर विशेष करने के बजाये ईरान का जो कड़ा जवाब होगा और उससे जो क्षति हो गयी उसके पुनर्निर्माण के लिए जायोनी अधिकारियों को दसियों अरब डालर विशेष करना चाहिये।

ज़ायोनी संचार माध्यमों ने अभी हाल ही में इस बात से पर्दा उठाया है कि नेफ्ताली बेनेट की अध्यक्षता में जायोनी मंत्रिमंडल ने ईरान के परमाणु कार्यक्रम जैसे विषयों के खिलाफ विध्वंसक कार्यवाहियों के लिए डेढ़ अरब डालर विशेष किया है।

जानकार हल्कों का मानना है कि इस्राईल ही नहीं बल्कि उसके आक़ाओं के अंदर भी ईरान पर हमला करने या तेहरान के खिलाफ किसी प्रकार के अतिक्रमण की हिम्मत नहीं है। क्योंकि इस्राईल और उसके आक़ाओं को ईरान की ताक़त और उसके जवाब का बहुत अच्छी तरह अंदाज़ा है इसलिए वे कभी भी एसी कोई ग़लती नहीं करेंगे जिससे उनकी शक्ति की पोल खुल जाये और अगर उनके अंदर ईरान पर हमला करने का साहस होता तो यह कार्य वे बहुत पहले कर चुके होते। 

इसी प्रकार जानकार हल्कों का मानना है कि इस्राईल को बहुत अच्छी तरह पता है कि ईरान पर उसके आक़ा अमेरिका के अंदर भी हमला करने की हिम्मत नहीं है और अगर हिम्मत होती तो जब ईरान ने इराक में अमेरिका की सैन्य छावनी एनुल असद पर मिसाइलों की बारिश की थी तभी ईरान पर हमला कर देता परंतु ईरान पर हमले से पहले उसे अपना अंजाम नज़र आने लगे इसलिए चुपचाप शराफत से अपनी जगह बैठ गया और अब अमेरिकी अधिकारी कभी भी नहीं कहते कि ईरान के खिलाफ समस्त विकल्प मेज़ पर हैं।  

नोटः यह व्यक्तिगत विचार हैं। पार्सटूडे का इनसे सहमत होना ज़रूरी नहीं है। MM

हमारा व्हाट्सएप ग्रुप ज्वाइन करने के लिए क्लिक कीजिए

हमारा टेलीग्राम चैनल ज्वाइन कीजिए

हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब कीजिए!

ट्वीटर  पर हमें फ़ालो कीजिए

टैग्स