Nov २७, २०२१ १०:१० Asia/Kolkata
  • आईएईए का रवैया भेदभावपूर्ण, पश्चिमी देशों को हटानी पड़ेंगी सारी पाबंदियां, वियेना वार्ता से पहले ईरान की दो टूक

इस्लामी गणतंत्र ईरान ने अंतर्राष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा एजेंसी आईएईए के महानिदेशक की ईरान यात्रा के बाद कहा है कि यह ज़मीनी हक़ीक़त है कि आईएईए का रवैया उचित नहीं है और हमने इस बात की शिकायत कई बार की है।

ईरान की परमाणु ऊर्जा संस्था के प्रवक्ता बेहरूज़ कमालवंदी ने कहा कि पश्चिमी देशों से आईएईए जैसी संस्थाओं की फ़ंडिंग होती है और वह इन संस्थाओं पर दबाव डालते हैं।

ज्ञात रहे कि सोमवार को वियेना में ईरान और 2015 के परमाणु समझौते में शामिल देशों की वार्ता फिर से शुरू होने जा रही है।

ईरान की यात्रा करके लौटे आईएईए के महानिदेश राफ़ायल ग्रोसी ने बुधवार को बोर्ड आफ़ गवर्नर्ज़ की बैठक में कहा कि तेहरान में वार्ता तो सार्थक रही लेकिन सारी कोशिशों के बावजूद समझौता नहीं हो पाया।

ईरान की परमाणु ऊर्जा संस्था के प्रवक्ता कमालवंदी ने कहा कि हम अपने अधिकारों पर ज़ोर दे रहे हैं और ईरान की छवि ख़राब करने की कोशिशों का मुक़ाबला कर रहे हैं।

वियेना वार्ता में ईरान के अलावा वह देश शामिल होंगे जो अब तक परमाणु समझौता का हिस्सा हैं, अमरीका चूंकि इस समझौते से निकल चुका है इसलिए वह बैठक में अप्रत्यक्ष रूप से शामिल होगा।

शुक्रवार को ईरान के विदेश मंत्री हुसैन अमीर अब्दुल्लाहियान ने कहा कि उनका देश चाहता है कि सारे प्रतिबंध ख़त्म हों। उन्होंने यूरोपीय संघ के विदेश नीति प्रभारी जोज़ेफ़ बोरेल से टेलीफ़ोनी वार्ता में कहा कि अगर परमाणु समझौते पर अमल करते हुए ईरान पर लगे प्रतिबंध हटाए गए तो बहुत जल्द अच्छा समझौता हो जाएगा। विदेश मंत्री ने कहा कि ईरान अच्छा समझौता चाहता है जिस पर अमल हो।

अमीर अब्दुल्लाहियान ने कहा कि ईरान सदभावना के साथ वियेना वार्ता में शामिल हो रहा है हालांकि अमरीका ने इस समझौते का उल्लंत्रन किया।

हमारा व्हाट्सएप ग्रुप ज्वाइन करने के लिए क्लिक कीजिए

हमारा टेलीग्राम चैनल ज्वाइन कीजिए

हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब कीजिए!

ट्वीटर  पर हमें फ़ालो कीजिए

टैग्स