Nov ३०, २०२१ १७:०५ Asia/Kolkata

वियेना में हो रही परमाणु वार्ता में ईरान के वरिष्ठ वार्ताकार अली बाक़ेरी ने परमाणु वार्ता को सार्थक बताया और कहा कि रूस और चीन ने ईरान के स्टैंड का समर्थन किया है।

....उन्होंने कहा कि यूरोपीय देशों के प्रतिनिधियों ने भी अपना पक्ष रखते हुए यह बात साफ़ शब्दों में कही कि वर्तमान हालात के लिए अमरीका ज़िम्मेदार है। इसलिए अब क़दम उठाने की शुरुआत भी अमरीका की तरफ़ से होनी चाहिए।

ईरान के विदेश उपमंत्री अली बाक़ेरी ने कहा कि वियेना में हमारी वार्ता फ़ोर प्लस वन से हो रही है। उन्होंने कहा कि हम वार्ता का संजीदा इरादा और समझौते का पुख्ता संकल्प रखते हैं इसलिए भविष्य को लेकर हम आशावादी हैं लेकिन दूसरे पक्ष पर चूंकि हमें भरोसा नहीं है  इसिलए हम भोलापन भी दिखाने वाले नहीं हैं।....अली बाक़ेरी ने कहा कि एक मुद्दा यह है कि अमरीका ठोस गैरेंटी दे कि कोई नया प्रतिबंध नहीं लगाएगा और जो पाबंदियां हट चुकी हैं उन्हें दोबारा नहीं लगाएगा। परमाणु समझौते से दोबारा न निकलने की गैरेंटी दे। इसी तरह गरेंटी कि परमाणु डील में शामिल अन्य देशों के ख़िलाफ़ को दंडात्मक कार्यवाही नहीं करेगा। यूरोपीय संघ के विदेश नीति के अधिकारी ने वर्किंग ग्रुप की बैठक के बाद कहा कि मंगलवार से प्रतिबंधों के मामलों की वर्किंग कमेटी और उसके बाद परमाणु मामले की वर्किंग कमेटी काम शुरू करेगी। ईरान की वार्ताकार टीम ने कहा है कि ईरान की प्राथमिकता पाबंदियों को हटवाना है। एटमी डील के कमीशन की बैठक में यह फ़ैसला किया जाएगा कि अगली बैठक कब और कहां होगी। वियेना से आईआरआईबी के लिए काज़ेमी की रिपोर्ट   

 

टैग्स