Jan १७, २०२२ ००:२१ Asia/Kolkata
  • सीरिया का समर्थन करके ईरान बहुत बुरा कर रहा है, इससे हम खुश नहीं हैंः अमरीका

एक अमरीकी अधिकारी ने बताया है कि दक्षिणी सीरिया में अमरीकी सैन्य उपस्थिति का उद्देश्य, तेहरान और दमिश्क़ के संपर्क को समाप्त करना है।

सीरिया के लिए अमरीका के पूर्व दूत जेम्स जेफरी ने कहा है कि विदेश में अमरीकी सैनिकों की उपस्थिति का मुख्य उद्देश्य, अमरीका और उसके घटकों के हितों की रक्षा करते हुए उनको मज़बूत बनाना है।  उन्होंने कहा कि सीरिया के दक्षिण में स्थित अत्तनफ़ छावनी में अमरीकी सैनिकों की उपस्थिति का मक़सद भी सीरिया के राष्ट्रपति पर दबाव बनाकर ईरान और सीरिया के संबन्धों को समाप्त करवाना है।  जेम्स जेफ़री ने यह भी बताया कि जबतक अमरीकी सैनिक किसी देश में मौजूद रहते हैं, वे अन्य देशों के सैनिकों को वहां आने नहीं देते।  सीरिया में भी एसा ही किया जा रहा है।  अमरीका के पूर्व दूत जेम्स जेफरी के इस बयान से कुछ पहले अमरीका के एक राजनेता रेनपेल ने यह बात कही थी कि वाशिग्टन एसी स्थिति में सीरिया में दाइश के विरुद्ध युद्ध का दावा कर रहा है कि जब वहां पर की जा रही उसकी सैन्य कार्यवाहियां, आतंकियों के हित में हैं।  उन्होंने कहा कि ईरान द्वारा सीरिया के खुले समर्थन से अमरीका बहुत नाराज़ है।  यही कारण है कि उसने सीरिया में अपनी कई छावनियां बना रखी हैं।  उल्लेखनीय है कि अमरीका और उसके घटक देशों का समर्थन प्राप्त आतंकवादी गुटों के हमलों के साथ 2011 में सीरिया संकट आरंभ हुआ था जिसका मुख्य उद्देश्य, क्षेत्रीय समीकरणों को अवैध ज़ायोनी शासन के हित में मोड़ना था।

हमारा व्हाट्सएप ग्रुप ज्वाइन करने के लिए क्लिक कीजिए

हमारा टेलीग्राम चैनल ज्वाइन कीजिए

हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब कीजिए!

ट्वीटर  पर हमें फ़ालो कीजिए

टैग्स