Jan २८, २०२२ १६:२२ Asia/Kolkata
  • अमेरिकी सपना कभी भी साकार नहीं होगाः तेहरान

आज तेहरान की केन्द्रीय नमाज़े जुमा आयतुल्लाह सैयद अहमद ख़ातेमी की इमामत में अदा की गयी।

उन्होंने नमाज़े जुमा के खुत्बों में कहा कि यमनी जनता के खिलाफ होने वाले अपराधों के बारे में जो खेद की बात है वह यह है कि मानवाधिकार संगठनों व संस्थाओं की चुप्पी है और वे मज़लूम लोगों की हत्या व नरसंहार पर बोल नहीं रहे हैं।

तेहरान की केन्द्रीय नमाज़े जुमा के अस्थाई इमाम ने कहा कि ईश्वर और पैग़म्बरे इस्लाम ने जो आदेश दिये हैं उन पर अमल किया जाना चाहिये। उन्होंने कहा कि धर्म केवल परलोक को आबाद करने के लिए नहीं आया है बल्कि धर्म लोक- परलोक दोनों को आबाद करने के लिए आया है और जो लोग दुनिया के लिए आखरत को भुला देते हैं और जो आखरत के लिए दुनिया को भुला देते हैं इनमें से कोई भी चीज़ धर्म नहीं चाहता।

उन्होंने कहा कि दिग्भ्रमित धार्मिक सेक्यूलेरिज्म वाले कहते हैं कि धर्म का काम आखरत को आबाद करना है और दुनिया के काम को दुनिया वालों के हवाले कर दीजिये। इसी प्रकार उन्होंने कोरोना के संबंध में गाइडलाइन्स का ध्यान रखने पर बल दिया और कहा कि हम सबको जान लेना चाहिये कि यह लोगों का अधिकार है जो मास्क नहीं लगाता है वह यह न सोचे कि वह बहादुर व साहसी है! यह लोगों का अधिकार है कि सामूहिक कार्यकर्मों व सभाओं में मास्क लगायें और दूसरों को संक्रमित न करें।

तेहरान की नमाज़े जुमा के अस्थाई इमाम ने वियना में होने वाली परमाणु वार्ता की ओर संकेत किया और कहा कि अमेरिका को चाहिये कि ईरान के खिलाफ समस्त प्रतिबंधों को पूरी तरह और हमेशा के लिए समाप्त करे। इसी प्रकार उन्होंने कहा कि अमेरिका वार्ता नहीं कर रहा है वह लूट खसोट की चेष्टा में है अमेरिकी लूट खसोट का सपना देख रहे हैं और यह वह सपना है जो कभी भी साकार नहीं होगा।

तेहरान की नमाज़े जुमा के अस्थाई इमामे जुमा ने यमन की स्थिति की ओर संकेत किया और कहा कि यमन में मानव त्रासदी घटित हो रही है और सऊदी अरब की अनुवाई में बना गठबंधन लगातार यमनी जनता पर बमबारी कर रहा है और अभी हाल ही में 60 महिलायें और बच्चे मारे गये जबकि सैकड़ों घायल हो गये और इंटरनेट को भी काट दिया ताकि उनकी आवाज़ विश्व वासियों तक न पहुंच सके।

उन्होंने कहा कि अंसारुल्लाह अपनी रक्षा कर रहा है जबकि कुछ देशों ने अंसारुल्लाह की भर्त्सना की और अत्याचारियों व हमलावरों की भर्त्सना नहीं की और यह है आपका मानवाधिकार है? उन्होंने कहा कि जो चीज़ गर्व का कारण है वह यमनी जनता का प्रतिरोध है, सऊदी अरब चाह रहा था कि दो सप्ताह में वह यमन पर कब्ज़ा कर लेगा परंतु लगभग आठ साल होने वाला है कि यमनी जनता व लोगों ने अपने साहसिक प्रतिरोध से दुश्मन को पीछे ढ़केल दिया है और यह राष्ट्र आदर- सम्मान और प्रतिष्ठा के लाएक़ है। MM

हमारा व्हाट्सएप ग्रुप ज्वाइन करने के लिए क्लिक कीजिए

हमारा टेलीग्राम चैनल ज्वाइन कीजिए

हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब कीजिए!

ट्वीटर  पर हमें फ़ालो कीजिए

 

 

 

टैग्स