May १७, २०२२ १५:३६ Asia/Kolkata
  • टकराव का अंजाम अच्छा नहीं होगाः ईरान

ईरान के विदेशमंत्रालय के प्रवक्ता ने नैटो की कार्यवाहियों और नीतियों की ओर संकेत करते हुए कहा है कि नैटो को जान लेना चाहिये कि टकराव का अंत अच्छा नहीं होगा।

विदेशमंत्रालय के प्रवक्ता सईद ख़तीबज़ादे ने स्पूतनिक न्यूज़ एजेन्सी से बात करते हुए कहा कि वर्तमान समय की घटनाओं की जड़ नैटो का विस्तार और दूसरे देशों की राजनीतिक और सुरक्षा चिंताओं की अनदेखी है।

उन्होंने कहा कि तेहरान, मॉस्को और कीव के मध्य शांति स्थापित कराने के लिए अपने समस्त प्रयासों का प्रयोग करेगा और इसी संबंध में ईरान रूस और यूक्रेन के मध्य मध्यस्थता का नया प्रयास आरंभ करने के प्रयास में हैं। विदेशमंत्रालय के प्रवक्ता ने इसी प्रकार ईरान और रूस के संबंधों की ओर संकेत करते हुए कहा कि तेहरान-मॉस्को के संबंध स्ट्रैटेजिक हैं और हम इस बात की अनुमति नहीं देंगे कि किसी विषय से इन संबंधों को नुकसान पहुंचे।

ज्ञात रहे कि वर्ष 1940 में सामूहिक रक्षा के लक्ष्य से वाशिंग्टन में नैटो की बुनियाद रखी गयी थी और इस समय अमेरिका और बहुत से यूरोपीय और उनके पड़ोसी देश नैटो के सदस्य हैं।

जानकार हल्कों का मानना है कि यद्यपि अमेरिका और नैटो ने कहा है कि वह रूस-यूक्रेन युद्ध में सैनिक हस्तक्षेप नहीं करेंगे परंतु यूक्रेन की सैनिक मदद करके इन देशों ने बता दिया है कि वे व्यवहारिक तौर पर रूस-यूक्रेन युद्ध में शामिल हैं और अमेरिका, नैटो और पश्चिमी देशों द्वारा यूक्रेन को दी जा रही सैनिक मदद इस युद्ध के लंबा होने का कारण है और अमेरिका और नैटो का इस युद्ध से एक लक्ष्य रूस को कमजोर करके उसकी कमर तोड़ देना है ताकि अमेरिका और नैटो का विस्तार सरल हो जाये।

नोटः ये व्यक्तिगत विचार हैं। पार्सटूडे का इनसे सहमत होना ज़रूरी नहीं है। MM

हमारा व्हाट्सएप ग्रुप ज्वाइन करने के लिए क्लिक कीजिए

हमारा टेलीग्राम चैनल ज्वाइन कीजिए

हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब कीजिए!

ट्वीटर पर हमें फ़ालो कीजिए

 

टैग्स