May १९, २०२२ ०९:३६ Asia/Kolkata
  • तेहरान और हवाना के बीच सहयोग रणनीतिक है: राष्ट्रपति रईसी

बुधवार की रात तेहरान में क्यूबा के उप प्रधान मंत्री रिकार्डो कैब्रिसस रुइज़ के साथ एक बैठक के दौरान, इस्लामी गणतंत्र ईरान के राष्ट्रपति ने ईरान-क्यूबा संयुक्त आर्थिक सहयोग आयोग के परिणामों पर संतोष व्यक्त किया है। इस अवसर पर राष्ट्रपति ने कहा कि लैटिन अमेरिकी देशों सहित साम्राज्यवादी शक्तियों के विरोधी राष्ट्र, जैसे क्यूबा, हमारे लिए बहुत महत्वपूर्ण हैं।

प्राप्त रिपोर्ट के मुताबिक़, क्यूबा के उप प्रधान मंत्री रिकार्डो कैब्रिसस रुइज़ एक उच्च स्तरीय प्रतिनिधिमंडल के साथ ईरानी अधिकारियों से मुलाक़ात और द्विपक्षीय संबंधों के विकास और विस्तार के संबंध में वार्ता के लिए ईरान की यात्रा पर पहुंचे हैं। क्यूबा के उप प्रधानमंत्री अपनी इस यात्रा के दौरान तेहरान और हवाना के आर्थिक सहयोग के लिए बने संयुक्त आयोग की तेहरान में आयोजित होने वाली 18वीं बैठक में भी भाग लेंगे। इस्लामी गणतंत्र ईरान के राष्ट्रपति ने क्यूबा के उप प्रधानमंत्री से मुलाक़ात के दौरान तेहरान-हवाना संबंधों को रणनीतिक बताया और कहा व्यापार, अर्थव्यवस्था, कृषि, स्वास्थ्य और चिकित्सा देखभाल के क्षेत्र में सहयोग विकसित करने के लिए दोनों देशों में मौजूद अनगिनत और विविध क्षमताओं का उपयोग किया जाना चाहिए। राष्ट्रपति रईसी ने कहा कि ईरान और क्यूबा के बीच सकारात्मक और रचनात्मक द्विपक्षीय संबंधों को दोनों देशों के बीच अंतर्राष्ट्रीय बातचीत के क्षेत्र में विस्तारित किया जा सकता है।

क्यूबा के उप प्रधान मंत्री रिकार्डो कैब्रिसस रुइज़, ने की इस्लामी गणतंत्र ईरान के राष्ट्रपति ने सैयद इब्राहीम रईसी

इस बीच क्यूबा के उप प्रधानमंत्री रिकार्डो कैब्रिसस रुइज़ ने तेहरान और हवाना के बीच राजनीतिक, आर्थिक और व्यापारिक संबंधों का रणनीतिक और गहराई से वर्णन किया और कहा कि लघु, मध्यम और दीर्घकालिक कार्यक्रम ईरान-क्यूबा संबंधों को द्विपक्षीय संबंधों के स्तर से लैटिन अमेरिकी क्षेत्र में बहुपक्षीय बातचीत तक बढ़ा सकते हैं। बता दें कि  रुइज़ ने इसी प्रकार देश की महत्वपूर्ण आर्थिक परियोजनाओं में ईरान कंपनी के तकनीकी अनुभवों से लाभ उठाने पर तत्परता का एलान किया। उल्लेखनीय है कि वर्ष 1979 में इस्लामी क्रांति की सफलता और ईरान में इस्लामी व्यवस्था के गठन के बाद तेहरान ने क्यूबा सहित साम्राज्यवादी देशों के विरोधी देशों के साथ राजनैतिक संबंध स्थापित करने के लिए क़दम बढ़ाए। पिछले कई दशकों के दौरान तेहरान और हवना के संबंध बहुत अधिक विस्तृत हुए हैं। इस्लामी गणतंत्र ईरान और क्यूबा के सहयोग में विस्तार दोनों देशों के हितों को दृष्टिगत रखकर हो रहा है। (RZ)

 

हमारा व्हाट्सएप ग्रुप ज्वाइन करने के लिए क्लिक कीजिए

हमारा टेलीग्राम चैनल ज्वाइन कीजिए

हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब कीजिए!

ट्वीटर पर हमें फ़ालो कीजिए

टैग्स