May १९, २०२२ १७:१३ Asia/Kolkata

संयुक्त राष्ट्र संघ की विशेष रिपोर्टर ने ईरान पर अमरीका की ओर से लगाए गए प्रतिबंधों को ग़ैर क़ानूनी घोषित करते हुए अमरीकी सरकार से कहा है कि खाने पीने की चीज़ों, दवाओं, पानी और स्वास्थ्य संबंधी वस्तुओं के बारे में ईरान पर लगाए गए प्रतिबंधों को तत्काल समाप्त करे।

एकपक्षीय क़दमों से मानवाधिकारों पर पड़ने वाले नकारात्मक प्रभावों के मामले में संयुक्त राष्ट्र संघ की विशेष रिपोर्टर एलना दोहान ने बुधवार की शाम एक पत्रकार सम्मेलन में अपनी 12 दिवसीय ईरान यात्रा के नतीजे बयान किए। उन्होंने कहा कि ईरान पर जो प्रतिबंध लगाए गए हैं वे मानवाधिकार परिषद और सयुंक्त राष्ट्र महासभा की नज़र से न्यायसंगत नहीं हैं इनका कोई तर्क नहीं हो सकता। इन प्रतिबंधों के चलते ईरान में मानवाधिकारों की स्थिति ख़तरे में है इन पाबंदियों की वजह से सामान का निर्यात बैंकों की गतिविधियां और दवाओं की सप्लाई सब प्रभावित हुई है। इन पाबंदियों के चलते सरकार की आमदनी कम हुई है और ग़रीब वर्ग के लिए समस्याएं बढ़ी हैं।

इस्लामी इंक़ेलाब की कामयाबी के बाद ईरान पर बहुत सारे प्रतिबंध लगा दिए गए जिनके चलते ईरान का बैंकिंग सेक्टर और तेल व गैस विभाग अनेक समस्याओं में फंस गया। इन पाबंदियों के चलते ईरान की आम जनता को बड़ी मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है।

आर्थिक शोधकर्ताओं मैटियस नवीनकृष और फ़्लोरियन न्वीमायर ने अलग अलग देशों पर लगाई गई पाबंदियों के प्रभावों और नतीजों की समीक्षा की है। उनका कहना है कि इन पाबंदियों से समाज में ग़रीबी और असमानता बढ़ती है और देशों की जीडीपी प्रभावित होती है। 1991से 2018 के बीच अमरीका द्वारा लगाई गई पाबंदियों से अलग अलग देशों में 3.5 प्रतिशत ग़रीबी बढ़ी जबकि इन देशों की जीडीपी में दो प्रतिशत की कमी हुई।

अमरीकी पाबंदियों का सामना कर रहे ईरान में भी व्यापार प्रभावित हुआ है। संयुक्त राष्ट्र संघ की विशेष रिपोर्टर ने कहा कि ईरान की 100 से 120 अरब डालर की  रक़म इन पाबंदियों की भेंट चढ़ गई।

पाबंदियों के चलते मानवता प्रेमी सहायताओं के रास्ते में भी गंभीर रुकावटें उत्पन्न हो गई हैं। ईरान में बड़ी संख्या में अफ़ग़ान शरणार्थी रहते हें इन पाबंदियों का असर शरणार्थियों पर प्रत्यक्ष रूप से पड़ रहा है।

यही वजह है कि ईरान की सरकार के प्रवक्ता अली बहादुरी जहरुमी ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र संघ की विशेष रिपोर्टर का बयान साफ़ ज़ाहिर करता है कि ईरान पर अमरीका की ओर से लगाए गए प्रतिबंध ग़ैर क़ानूनी है और यह अमरीका की एक और बड़ी बदनामी है।

 

 

टैग्स