May २४, २०२२ १७:०५ Asia/Kolkata
  • मध्यपूर्व के कई देशों में आसमान नारंगी हो गया, क्षेत्र का एक बड़ा हिस्सा रेत की चादर से ढक गया

रेतीली आंधी की एक अभूतपूर्व लहर ने क्षेत्र के एक बड़े हिस्से को अपने चपेट में ले लिया है, जिसके लिए विशेषज्ञ, जलवायु परिवर्तन को ज़िम्मेदार ठहरा रहे हैं।

मंगलवार को पिछले एक हफ़्ते के दौरान दूसरी बार इराक़, ईरान, सीरिया और कुवैत समेत मध्य पूर्व के कई देशों में रेतीली आंधी आने के बाद, स्कूलों में छुट्टी कर दी गई और कई जगहों पर सार्वजनिक स्थानों और हवाई अड्डों को अस्थायी रूप से बंद करना पड़ा है।

रियाज़ से तेहरान तक नारंगी आसमान और घने रेत की चादर ने सोमवार को एक और तूफ़ानी दिन का संकेत दिया, जिसने नागरिकों को हतप्रभ कर दिया और विशेषज्ञों को चिंता में डाल दिया। इसके लिए इलाक़े में अभूतपूर्व सूखे, जलवायु परिवर्तन और ख़राब व्यवस्था को ज़िम्मेदार ठहराया जा रहा है।

इराक़ में इस रेतीली आंधी का असर सबसे ज़्यादा नज़र आ रहा है, जहां सरकार ने देश भर में सरकारी छुट्टी का एलान कर दिया।

प्राप्त रिपोर्ट के मुताबिक़, पिछले दो महीनों के दौरान, सोमवार से शुरू होने वाली यह दसवीं रेतीली आंधी थी।

इराक़ के स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक़ एक हज़ार से अधिक लोगों को सांस की समस्या के चलते अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

संयुक्त अरब अमीरात में विशेषज्ञों ने इस हफ़्ते देश के बड़े हिस्से में धूल भरी आंधी के चलते स्वास्थ्य संबंधी दिक्क़तों की चेतावनी दी है। msm

हमारा व्हाट्सएप ग्रुप ज्वाइन करने के लिए क्लिक कीजिए

हमारा टेलीग्राम चैनल ज्वाइन कीजिए

हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब कीजिए!

ट्वीटर पर हमें फ़ालो कीजिए

टैग्स