May २६, २०२२ २०:२९ Asia/Kolkata
  • ईरान ने कर्नल की हत्या का मामला अंतर्राष्ट्रीय मंच पर उठाया

संयुक्त राष्ट्र संघ में ईरान के स्थाई राजदूत ने इस संस्था के प्रमुख के नाम पत्र में पवित्र रौज़ों के रक्षक कर्नल हसन सैय्याद ख़ुदाई की हत्या की कड़ी आलोचना की है।

तेहरान में रविवार को क्रांति विरोधी और विश्व साम्राज्यवादियों से जुड़े तत्वों ने पवित्र रौज़ों के रक्षक कर्नल हसन सैय्याद ख़ुदाई को आतंकी हमले का निशाना बनाकर शहीद कर दिया था।

संयुक्त राष्ट्र संघ में ईरान के स्थाई राजदूत मजीद तख़्त रवान्ची ने संयुक्त राष्ट्र संघ के महासचिव एंटोनियो गुटेरस के नाम पत्र में कहा कि यह पत्र, 22 मई 2022 को आतंकवादी गुट दाइश के विरुद्ध संघर्षरत ईरान की सशस्त्र सेना के एक सैनिक शहीद सैय्याद ख़ुदाई की कायरराना हत्या के संबंध में लिखा गया है।

इस पत्र में आया है कि वर्तमान सबूत और साक्ष्यों से अच्छी तरह स्पष्ट हो जाता है कि यह आतंकी कार्यवाही उन सरकारों की ओर से अंजाम दी गयी है जिनकी विदेश नीति में अपने अवैध लक्ष्यों को आगे बढ़ाने के लिए ईरानी वैज्ञानिकों और बेगुनाह नागरिकों के विरुद्ध व्यवस्थित आतंकवाद का क्रम एक असली हथकंडे के रूप में शामिल है।

मजीद तख़्त रवान्ची ने अपने पत्र में कहा कि इस प्रकार की कार्यवाही संयुक्त राष्ट्र संघ के घोषणापत्र, अंतर्राष्ट्रीय नियमों और मूल मानवाधिकारों का उल्लंघन है और निसंदेह क्षेत्रीय और अंतर्राष्ट्रीय शांति और सुरक्षा के लिए ख़तरा है जिसका परिणाम उसके समर्थकों और ज़िम्मेदारों को भुगतना पड़ेगा।

इस पत्र में कहा गया है कि इस प्रकार के सरकारी आतंकवाद का क्रम क़ानून की सत्ता के लिए एक चैलेंज और अंतर्राष्ट्रीय समुदाय की बढ़ती हुई चिंता का कारण है और इस आधार पर इस प्रकार की भड़काऊ कार्यवाहियां और जंगलरात पर चुप्पी, हत्यारों और इसका आदेश देने वालों को अंतर्राष्ट्रीय क़ानूनों के विरुद्ध और नीच कार्यवाहियों को जारी रखने की ग़लत शैली की ओर प्रेरित करेंगे।

संयुक्त राष्ट्र संघ में ईरान के स्थाई राजदूत मजीद तख़्त रवान्ची ने अपने पत्र में बल दिया कि विश्व समुदाय को अंतर्राष्ट्रीय शांति और सुरक्षा की रक्षा के संबंध में इस प्रकार की आतंकी कार्यवाहियों के ख़तरनाक परिणामों के बारे में चिंतन करना चाहिए और इसका मुक़ाबला करने के लिए देशों के नागरिकों के विरुद्ध इस प्रकार की पाश्विक हत्या की निंदा करनी चाहिए जो कुछ सरकारों के सरकारी आतंकवाद का परिणाम है। (AK)

 

हमारा व्हाट्सएप ग्रुप ज्वाइन करने के लिए क्लिक कीजिए

हमारा टेलीग्राम चैनल ज्वाइन कीजिए

हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब कीजिए!

ट्वीटर पर हमें फ़ालो कीजिए

टैग्स