Jun २८, २०२२ १९:३१ Asia/Kolkata
  • इस्राईल ने ईरान को क्यों कहा आक्टोपस का सिर? क्या है इस्राईली योजना और क्या होगा अंजाम?

इस्राईली सरकार ने हालिया दिनों एक नई शब्दावली का इस्तेमाल बहुत ज़्यादा किया है, आक्टोपस का सिर। उसका तात्पर्य है ईरान पर हमला और ईरान के ख़िलाफ़ अंदरूनी और बाहरी दोनों मोर्चों पर हमले तेज़ करना।

इस्राईल यह कहना चाहता है कि वो हिज़्बुल्लाह, हमास और जेहादे इस्लामी जैसे संगठनों पर ध्यान देने के बजाए जो ईरान के मज़बूत घटक हैं ख़ुद ईरान को निशाना बनाना चाहता है।

हालात बार बार साबित कर चुके हैं कि बयानबाज़ी अलग चीज़ है और ज़मीनी सच्चाई अलग चीज़ है। इस्राईल धमकियां चाहे जितनी दे लेकिन वो न तो ईरान पर हमला करने की हिम्मत कर पाया है और न ही ईरान के घटकों से लड़ने की ताक़त उसके पास बची है। जैसे जैस ईरान की ताक़त बढ़ती जा रही है उसके घटक भी बहुत तेज़ गति से ज़्यादा ताक़तवर बनते जा रहे हैं। यह संगठन जो ईरान के घटक कहे जाते हैं आज बहुत से देशों की सेना से ज़्यादा ताक़तवर बन चुके हैं। उनके पास सटीक निशाना लगाने वाले मिसाइल और ड्रोन हैं और जान पर खेल जाने वाले लड़ाके हैं।

इस्राईल की यह हालत है कि 1967 की जंग के बाद वो एक भी जंग जीत नहीं सका है। उसने 1982 लेबनान पर हमला किया था मगर उसके बाद से आज तक वो किसी भी अरब देश पर हमला करने और उसकी सीमा में दाख़िल होने की हिम्मत नहीं कर सका। लेबनान की सीमा में दाख़िल होने का भी बहुत भारी ख़मियाज़ा इस्राईल को चुकाना पड़ा और यही उसके लिए सबक़ हो गया।

हो सकता है कि इस्राईल को टारगेट किलिंग करने में कुछ कामयाबियां मिल गई हों और उसने ईरान के कुछ वैज्ञानिकों और कमांडरों को निशाना बनाया हो मगर टैंकरों और युद्धपोतों की जंग वो हार चुका है। इस्राईल की यह हालत है कि उसने डरकर अपने सारे नागरिकों को तुर्की से बाहर निकाल लिया कि कहीं ईरान उन पर हमला न करे।

इस्राईली नागरिक अवैध अधिकृत फ़िलिस्तीनी इलाक़ों में सुरक्षित नहीं हैं क्योंकि फ़िलिस्तीनी युवाओं का इंतेफ़ाज़ा आंदोलन पूरी गति से शुरू हो चुका है। यह आंदोलन इस्राईल के बिल्कुल भीतरी इलाक़ों को निशाना बना रहे हैं और इस्राईल का कोई भी इलाक़ा सुरक्षित नहीं रह गया है। तेल अबीब और बेर सबा जैसे इलाक़ों पर हालिया समय में होने वाले हमले यही साबित करते हैं।

इस्राईल ने इससे पहले भी कई शब्दावलियां इस्तेमाल की हैं जैसे आक्रोश का गुच्छा, हिफ़ाज़त की दीवार, मज़बूत ढाल, मूसलाधार गोलियां और न जाने क्या क्या। यह सारी योजनाएं ग़ज़्ज़ा पट्टी और वेस्ट बैंक में बुरी तरह नाकाम होती रही हैं इसलिए हमें यक़ीन है कि इस्राईल द्वारा छोड़ा गया यह नया शिगोफ़ा और नई शब्दावली भी इसी अंजाम को पहुंचेगी। हमें इसके लिए ज़्यादा इंतेज़ार भी नहीं करना पड़ेगा।

स्रोतः रायुल यौम

 

हमारा व्हाट्सएप ग्रुप ज्वाइन करने के लिए क्लिक कीजिए

हमारा टेलीग्राम चैनल ज्वाइन कीजिए

हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब कीजिए!

ट्वीटर पर हमें फ़ालो कीजिए

टैग्स