Aug ०७, २०२२ १२:५४ Asia/Kolkata
  • जनरल सलामीः बहुत भारी ख़मियाज़ा भुगतने के लिए तैयार हो जाए इस्राईल, नुख़ालाः लंबी लड़ाई के लिए फ़िलिस्तीनी संगठन पूरी तरह तैयार

ईरान की पासदाराने इंक़ेलाब फ़ोर्स के कमांडर इनचीफ़ से फ़िलिस्तीनी संगठन जेहादे इस्लामी के महासचिव ज़्यादा नुख़ाला ने संवेदनशील हालात में मुलाक़ात की है।

इस समय जब फ़िलिस्तीनी संगठनों और इस्राईल के बीच जंग जैसे हालात हैं तो यह मुलाक़ात बहुत महत्वपूर्ण मानी जा रही है।

इस मुलाक़ात में पासदाराने इंक़ेलाब फ़ोर्स के प्रमुख जनरल हुसैन सलामी ने कहा कि ग़ज़्ज़ा पर हमलों का भारी ख़मियाज़ा भुगतने के लिए इस्राईल तैयार रहे, फ़िलिस्तीनी संगठनों ने बड़े युद्ध के लिए अपनी क्षमता का प्रदर्शन किया है।

ज़्यादा नुख़ाला ने कहा कि हम बहुत अच्छी पोज़ीशन में हैं और लंबे समय तक युद्ध लड़ सकते हैं।

तेहरान की यात्रा पर आने वाला नुख़ाला वरिष्ठ ईरानी अधिकारियों से कई मुलाक़ातें कर चुके हैं और इसी क्रम में उन्होंने जनरल हुसैन सलामी से मुलाक़ात की। नुख़ाला की मुलाक़ात राष्ट्रपति सैयद इब्राहीम रईसी, विदेश मंत्री हुसैन अमीर अब्दुल्लाहियान और सुप्रीम लीडर के सलाहकार डाक्टर अली अकबर विलायती से हुई।

यह मुलाक़ात तब हुई है जब शुक्रवार को इस्राईल ने ग़ज़्ज़ा पट्टी पर भीषण हमले करके दो दर्जन से अधिक फ़िलिस्तीनियों को क़त्ल और सौ से अधिक को घायल कर लिया है। फ़िलिस्तीनी संगठनों ने इसके जवाब में इस्राईली इलाक़ों पर एक हज़ार से अधिक मिसाइल फ़ायर किए हैं।

जनरल सलामी ने ग़ज़्ज़ा पट्टी पर इस्राईल के बर्बरतापूर्ण हमलों और इनमें दर्जनों फ़िलिस्तीनियों की शहादत की कड़े शब्दों में निंदा की। उन्होंने कहा कि फ़िलिस्तीन के हालात को देखकर साफ़ पता चलता है कि इस्राईल की ताक़त पतन का शिकार है।

इस्राईल से कुछ अरब सरकारों के रिश्तों का उल्लेख करते हुए जनरल सलामी ने कहा कि इस्राईल अब धीरे धीरे अरब सरकारों की शरण में इसलिए जा रहा है कि उसे अमरीका की सीमित होती ताक़त को देखकर भारी निराशा है।

जनरल सलामी ने फ़िलिस्तीनी संगठनों की एकता की तारीफ़ की और कहा कि जैसे जैसे फ़िलिस्तीनी संगठनों की ताक़त बढ़ेगी इस्राईल की कमज़ोरी बढ़ती जाएगी और एक समय आएगा जब इस्राईल अपना काम जारी रख पाने में असमर्थ हो जाएग।

इस मुलाक़ात में नुख़ाला ने कहा कि फ़िलिस्तीनी संगठन इस समय बहुत अच्छी पोज़ीशन में हैं और उनके पास लंबे समय तक युद्ध के मोर्चों को संभालने की क्षमता मौजूद है। उन्होंने कहा कि फ़िलिस्तीन के मददगारों विशेष रूप से इस्लामी गणतंत्र ईरान की तरफ़ से मिलने वाली मदद के नतीजे हम फ़िलिस्तीनी संगठनों का मनोबल बहुत ऊंचा है और उनके पास सारी ज़रूरी संसाधन मौजूद हैं।

हमारा व्हाट्सएप ग्रुप ज्वाइन करने के लिए क्लिक कीजिए

हमारा टेलीग्राम चैनल ज्वाइन कीजिए

हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब कीजिए!

ट्वीटर पर हमें फ़ालो कीजिए 

फेसबुक पर हमारे पेज को लाइक करें

टैग्स