Aug १२, २०२२ १६:४१ Asia/Kolkata
  • क्या हालात के नाते तेहरान के सामने यूरोप ने घुटने टेके? मजबूर होकर यूरोप ने ईरान को दी हैं रियायतें? वाल स्ट्रीट जरनल की ख़ास रिपोर्ट

अमरीकी अख़बार वाल स्ट्रीट जरनल का कहना है कि यूरोपीय संघ ने परमाणु वार्ता के संदर्भ में जो मसौदा तैयार किया है उसमें उसने ईरान को बहुत सी रियायतें दी हैं।

अख़बार का दावा है कि यूरोप ने आईएईए की ओर से की जाने वाली जांच को ख़त्म कर देने का आश्वासन दिया है। अख़बार का कहना है यूरोप ने परमाणु समझौते को पुनः जीवित करने के लिए ईरान को बड़ी रियायतें दी हैं।

रिपोर्ट में कहा गया है कि आईएईए ईरान से कुछ सवाल पूछेगी जिसका जवाब ईरान ने दे दिया तो संस्था ईरान के मसले में अपनी जांच रोक देगी।

ज्ञात रहे कि ईरान शुरू से कह रहा है कि परमाणु मामले में पश्चिमी देशों विशेष रूप से अमरीका ने ग़ैर क़ानूनी रूप से ईरान पर पाबंदियां लगाई हैं और अगर परमाणु समझौतो को पुनः बहाल करना है तो इसके लिए ईरान पर लगी पाबंदियां हटानी होंगी और ठोस गैरेंटी देनी होगी कि पश्चिमी देश परमाणु समझौते का प्रभावी और स्थायी रूप से पालन करेंगे।

ईरान का कहना है कि वह नागरिक लक्ष्यों के लिए परमाणु कार्यक्रम चला रहा है और यह आईएईए और एनपीटी में शामिल सारे सदस्य देशों का अधिकार है इसलिए ईरान पर पश्चिमी देशों की ओर से लगाए गए प्रतिबंध ग़ैर क़ानूनी हैं।

अमरीका सहित पश्चिमी देश परमाणु मामले में शुरू से ईरान को धोखा देने की कोशिश कर रहे हैं जिसकी वजह से कठिनाइयां उत्पन्न हो रही हैं।

 हमारा व्हाट्सएप ग्रुप ज्वाइन करने के लिए क्लिक कीजिए

हमारा टेलीग्राम चैनल ज्वाइन कीजिए

हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब कीजिए!

ट्वीटर पर हमें फ़ालो कीजिए 

फेसबुक पर हमारे पेज को लाइक करें

टैग्स