Jul ०२, २०१९ १३:३० Asia/Kolkata
  • अमरीका के भयानक युद्ध अपराध की बरसी पर संसद सभापतिः ईरानियों ने हमेशा दुश्मनों का डट कर मुक़ाबला किया है

इस्लामी गणतंत्र ईरान के संसद सभापति ने कहा है कि पूरे इतिहास में ईरानियों ने हमेशा ठोस संकल्प के साथ दुश्मनों का डट कर मुक़ाबला किया है।

डॅाक्टर अली लारीजानी ने मंगलवार को ईरान के यात्री विमान पर अमरीकी युद्धपोत के हमले में शहीद होने वालों की याद में आयोजित एक कार्यक्रम में अपने भाषण के दौरान अमरीकी अपराधों का उल्लेख करते हुए कहा कि ईरानी राष्ट्र ने, अगस्त सन 1953 के विद्रोह, इराकी तानाशाह सद्दाम के हमले और फार्स की खाड़ी में अपने यात्री विमान को मार गिराए जाने सहित अमरीकी अपराधों को भुलाया नहीं है। 

डॅाक्टर अली लारीजानी ने ईरान के खिलाफ अमरीकी प्रतिबंधों का उल्लेख करते हुए कहा कि अमरीकी यह समझते थे कि धमकी देकर वह ईरानी राष्ट्र को झुका ले जाएंगे और इससे ईरान के भीतर भी टूट फूट आरंभ हो जाएगी लेकिन अमरीकियों के सारे समीकरण गलत साबित हुए। 

ईरान के संसद सभापति ने पश्चिमी एशिया में अमरीका की समस्या, ईरानी सभ्यता व संस्कृति को समझने में अमरीकियों की अक्षमता बताया और कहा कि अमरीकी यह समझते हैं कि युद्धपोतों को क्षेत्र में भेज कर किसी देश को घुटने टेकने पर विवश कर सकते हैं। 

ईरान के यात्री विमान पर अमरीकी युद्ध पोत की बरसी के उपलक्ष्य में मंगलवार को तेहरान में इस कार्यक्रम का आयोजन हुआ था। 

3 जूलाई सन 1988 में ईरान के बंदर अब्बास से दुबई जाने वाले ईरानी यात्री विमान को फार्स की खाड़ी में मौजूद अमरीकी युद्धपोत, यूएसएस विन्सन्स ने दो राकेट मार कर गिरा लिया था। 

अमरीका के इस भयानक अपराध में विमान पर सवार सभी 290 लोग शहीद हो गये थे। 

इन लोगों में 66 बच्चे, 53 महिलाएं और 46 विदेशी नागरिक थे। (Q.A.)

टैग्स

कमेंट्स