Oct ०९, २०१९ १५:३८ Asia/Kolkata
  • ईरान पर अधिकतम दबाव की अमरीकी साज़िश विफल हो गई है, अरबईन, इतिहास के चमत्कारों में से एक हैः रूहानी

राष्ट्रपति रूहानी ने कहा है कि ईरानी राष्ट्र पर अधिकतम दबाव डालने की अमरीकी साज़िश विफल हो गई है।

डाक्टर हसन रूहानी ने बुधवार को मंत्रीमंडल की बैठक में इस बात का उल्लेख करते हुए कि ईरान पर अधिकतम दबाव की अमरीकी साज़िश विफल हो गई है, कहा कि सभी आंकड़े और ईरानी जनता का मनोबल दर्शाता है कि अधिकतम दबाव के प्रभाव का समय ख़त्म हो चुका है। उन्होंने कहा कि ईरानी जनता ने अपने प्रतिरोध, संघर्ष, प्रयास और बलिदान से अधिकतम प्रतिबंध और आर्थिक आतंकवाद को पराजित कर दिया है। उन्होंने इस बात की तरफ़ इशारा करते हुए कि दुश्मन भी ईरानी राष्ट्र की ताक़त, संयम, मनोबल और सहनशीलता को मान रहे हैं, कहा कि इस बात में कोई संदेह नहीं है कि आज ईरान की ताक़त, किसी भी अन्य समय से अधिक है।

 

राष्ट्रपति रूहानी ने इसी तरह क्षेत्रीय हालात की बारे में कहा कि तुर्की की सरकार को अपनी दक्षिणी सीमाओं के बारे में कुछ चिंताएं हैं लेकिन उसे इन चिंताओं को दूर करने के लिए सही मार्ग और शैली का चयन करना चाहिए। उन्होंने बताया कि ईरान, रूस और तुर्की के राष्ट्राध्यक्षों की बैठक में स्पष्ट रूप से घोषणा की गई कि सीरिया की उत्तरी और तुर्की की दक्षिणी सीमाओं पर सुरक्षा की स्थापना केवल सीरियाई सेना की उपस्थिति और वहां से अमरीकी सैनिकों की वापसी से ही संभव है। ईरान के राष्ट्रपति ने इसी तरह इमाम हुसैन अलैहिस्सलाम के चेहलुम या अरबईन के कार्यक्रम की तरफ़ इशारा करते हुए इस कार्यक्रम के आयोजन के लिए इराक़ की सरकार और जनता के प्रयासों की सराहना की और कहा कि यह भव्य आयोजन, अमरीकियों और ज़ायोनियों के दिलों को दहला देता है। डाक्टर हसन रूहानी ने इस बात का उल्लेख करते हुए कि इमाम हुसैन का चेहलुम, इतिहास के चमत्कारों में से है, कहा कि इस भव्य कार्यक्रम में दसियों लाख लोगों की उपस्थिति, राजनैतिक, सांस्कृतिक और आध्यात्मिक शक्ति प्रदर्शन है। (HN)

टैग्स