Oct १०, २०१९ १९:५७ Asia/Kolkata

बच्चे पैदा होते हैं तो शुरु के दिनों में देखने आता है कि उन्हें ज्वाइंडिस या पीलिया हो गया है।

इससे बचने के कुछ उपाय हैं। गर्भवती महिलाओं के लिए कुछ चीज़ें बताई गई हैं जिनका ध्यान रखना चाहिए। इनमें से एक यह है कि गेंहूं और जौ का सत्तू प्रयोग किया जाए। इसे ज़्यादा खाना चाहिए। एक दो महीना इसे खाना बेहतर होगा। इसका नतीजा यह होगा कि बच्चा स्वस्थ और मज़बूत होगा। रिवायत में है कि तुम्हारा बच्चा स्वस्थ और मज़बूत पैदा होता है। अगर सत्तू का प्रयोग किया जाए तो यह नतीजा मिल सकता है। इसका तरीक़ा यह है कि प्रेग्नेन्सी से पहले मां और बाप दोनों ही सत्तू का प्रयोग करें।

गर्भवती होने के बाद मां को चाहिए कि ज़्याद सत्तू का प्रयोग करे। सत्तू इस बात की गैरेंटी बन जाता है कि बच्चा स्वस्थ पैदा होगा। उसमें किसी तरह की कमी और कमज़ोरी नहीं होगी। इसके अलावा बेही ज़्यादा खाएं जिसे अंग्रेज़ी में क्विन्स कहते हैं। प्रेग्नेन्सी से पहले, प्रेग्नेन्सी के बाद मां और बाप दोनों इसे खाएं। इसके अलावा कहा गया है कि कुंदुर ज़्यादा प्रयोग करें जिसे अंग्रेज़ी में Boswellia कहा जाता है। हर दिन दस ग्राम कुंदर मां को खाना चाहिए। इसके अलावा यह भी कहा गया है कि ख़रबूज़ा पनीर के साथ खाएं। इन चीज़ों का अगर ख़याल रखें तो बच्चा स्वस्थ पैदा होगा।

अगर बच्चे को पीलिया की शिकायत हो गई है तो घबराने की बात नहीं है। सिनाए मक्की का प्रयोग करके इसे दूरे किया जा सकता है। सिनाए मक्की की पत्ती को दम कर लें और चाय के चम्चे भर इस दम किए हुए पानी को बच्चे के मुंह में डालें उसका पीलिया ठीक हो जाएगा।

टैग्स

कमेंट्स