Oct १६, २०१९ १२:५७ Asia/Kolkata
  • ईरान व भारत के संबंध, दोनों देशों के इतिहास व संस्कृति की देन, संसद सभापति

इस्लामी गणतंत्र ईरान के संसद सभापति ने कहा है कि तेहरान व नयी दिल्ली के संबंध बेहद पुराने हैं जो वास्तव में दोनों देशों के इतिहास व संस्कृति की देन हैं।

संसद सभापति डॅाक्टर अली लारीजानी ने अंतरसंसदीय संघ के 141 वें सम्मेलन के अवसर पर भारत के लोक सभा अध्यक्ष ओम बिरला से भेंट में परस्पर संबंधों में विस्तार के लिए दोनों देशों के मध्य वार्ता जारी रहने की ज़रूरत पर ज़ोर दिया। 

संसद सभापति अली लारीजानी ने इसी प्रकार आतंकवाद को मध्य पूर्व का महत्वपूर्ण मुद्दा बताया और कहा कि यह समस्या केवल क्षेत्रीय देशों के सहयोग से खत्म होगी हालांकि कुछ देशों का व्यवहार दोमुखा है जिसका एक उदाहरण अफगानिस्तान में देखा जा सकता है। 

इस भेंट में ओम बिरला ने भी भारत व ईरान के मध्य सांस्कृतिक, धार्मिक और पारंपरिक समानताओं का उल्लेख करते हुए कहा कि दोनों देशों के मध्य सहयोग में विस्तार के लिए अधिक क़दम उठाए जाने की ज़रूरत है। 

उन्होंने कहा कि ईरान और भारत दोनों की आतंकवाद का शिकार हैं इस लिए दोनों देशों के नेताओं का कर्तव्य है कि वह विशेषकर संसदीय मार्ग से पस्पर विश्वास बहाली  और भूमिका तैयार करके आतंकवाद की आलोचना और उसके खिलाफ संघर्ष करें। 

इस्लामी गणतंत्र ईरान के संसद सभापति अंतरसंसदीय संघ के 141वें सम्मेलन में भाग लेने के लिए सर्बिया की राजधानी बेलग्रेड की यात्रा पर हैं। (Q.A.)

टैग्स

कमेंट्स