Nov २२, २०१९ ०९:५९ Asia/Kolkata
  • ईरान की रक्षा नीति में परमाणु हथियारों का कोई स्थान नहींः ग़रीबाबादी

वियना में ईरानी राजदूत ने कहा है कि अमेरिका का राजनीतिक लक्ष्य अंतरराष्ट्रीय समझौतों के प्रति अपनी ज़िम्मेदारी से भागना है

वियना में ईरानी राजदूत ने कहा है कि समस्त वचनों पर अमल करने का एकमात्र मार्ग परमाणु समझौते की सरक्षा है और यूरोपीय पक्ष को चाहिये कि वह ईरान पर टीका- टिप्पणी करने के बजाये परमाणु समझौते के क्रियान्वयन में अमेरिका के विनाशकारी कार्यों को रोके।

समाचार एजेन्सी इर्ना की रिपोर्ट के अनुसार काज़िम ग़रीबाबादी ने गुरूवार को परमाणु ऊर्जा की अंतरराष्ट्रीय एजेन्सी की बोर्ड आफ गवरनर्स की बैठक में कहा कि यूरोप को चाहिये कि वह ईरान द्वारा परमाणु प्रतिबद्धताओं को कम करने की आलोचना करने के बजाये इस डिप्लोमेसिक उपलब्धता की रक्षा के लिए अमेरिका के विनाशकारी प्रयासों को रोके।

इसी प्रकार वियना में उन्होंने ईरान से अमेरिका की वार्ता के दावे को रद्द कर दिया और कहा कि अमेरिका का राजनीतिक लक्ष्य अंतरराष्ट्रीय समझौतों के प्रति अपनी ज़िम्मेदारी से भागना है और जिस तरह ईरान ने बारमबार घोषणा की है कि ईरान की रक्षा व सुरक्षा नीति में परमाणु हथियारों का कोई स्थान नहीं है।

ग़रीबाबादी ने कहा कि ईरान की परमाणु गतिविधियों के बारे में अमेरिकी दावा एसी स्थिति में किया जा रहा है जब ईरान ने परमाणु समझौते के समस्त वचनों पर अमल करके अपनी सद्भावना को दर्शा दिया है और जिस तरह से पूरी दुनिया ने देख लिया कि परमाणु ऊर्जा की अंतरराष्ट्रीय एजेन्सी ने बारमबार अपनी रिपोर्टों में इस बात की पुष्टि की है कि ईरान परमाणु समझौते में अपने वचनों के प्रति पूरी तरह कटिबद्ध रहा है।

ज्ञात रहे कि परमाणु ऊर्जा की अंतरराष्ट्रीय एजेन्सी में गुरूवार को अमेरिकी राजदूत ने दावा किया था कि ईरान की परमाणु गतिविधियां वर्तमान समय में चिंताजनक हैं। साथ ही उन्होंने यह भी कहा था कि अमेरिका किसी शर्त के बिना ईरान से वार्ता करना चाहता है। MM

 

टैग्स

कमेंट्स