Apr ०७, २०२० ००:३६ Asia/Kolkata
  • ईरान को आईएमएफ़ का ऋण, अमरीका ने वीटो की धमकी दे दी

कोरोना वायरस के मुक़ाबले के लिए आवश्यक उपकरणों की ख़रीदारी के उद्देश्य से अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष आईएमएफ़ से ईरान को ऋण दिए जाने का अमरीका ने विरोध किया है।

लगभग एक महीना पहले जब विभिन्न देशों में कोरोना के आर्थिक नुक़सान ज़ाहिर होना शुरु हुए थे तो अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष आईएमएफ़ की प्रमुख क्रिस्टीनिया जारजियो ने कोरोना से मुक़ाबला करने वाले देशों के लिए आपातकालीन आधारों पर ऋण देने के लिए 50 अरब डॉलर की राशि विशेष करने की घोषणा की थी।

ईरान सहित आईएमएफ़ के लगभग 80 देशों ने उसी समय कहा था कि उन्हें कोरोना वायरस से मुक़ाबले के लिए ऋण की आवश्यकता है। ईरान के सेन्ट्रल बैंक के प्रमुख ने 6 मार्च को आईएमएफ़ की प्रमुख के नाम लिखे गये अपने पत्र में 5 अरब डॉलर की मांग की थी।

ऋण के इच्छुक देशों की अपील की समीक्षा बैठक में अमरीकी विदेशमंत्री माइक पोम्पियो ने कहा कि उनका देश ईरान को ऋण देने के हक़ में नहीं है और आवश्यक हुआ तो वाशिंग्टन इस मामले में वीटो के अधिकार का प्रयोग करेगा।

अमरीकी विदेशमंत्री ने अपनी अमानवीय कार्यवाहियों का औचित्य पेश करते हुए ईरान के विरुद्ध एक बार फिर निराधार और मनगढ़ंत दावों को दोहराने के साथ साथ ईरान को कोरोना वायरस के फैलाव का ज़िम्मेदार भी क़रार दिया। (AK)

कमेंट्स