Apr ०९, २०२० ०७:२७ Asia/Kolkata
  • आंख में धूल झोंकने की कोशिश, अमरीकी विदेश मंत्री ने कहा हमारे प्रतिबंधों से ईरान के कोरोना संघर्ष पर कोई असर नहीं!

संयुक्त राष्ट्र संघ और मानवाधिकार संगठनों ने दो टूक शब्दों में कहा है कि अमरीका के प्रतिबंधों के चलते ईरान के हेल्थकेयर सिस्टम को भारी नुक़सान पहुंच रहा है लेकिन अमरीका के विदेश मंत्री माइक पोम्पेयो अपनी इसी ज़िद पर अड़े हैं कि अमरीकी प्रतिबंधों से ईरान को भेजी जाने वाली मानवीय सहायता में कोई रुकावट नहीं आ रही है।

कई विश्व संस्थाओं और देशों की ओर से अमानवीय अमरीकी प्रतिबंधों पर आपत्ति जताए जाने के बाद पोम्पेयो ने बुधवार को वाइट हाउस में पत्रकारों से बातचीत में कहा कि मैंने सुना है कि बहुत से लोग प्रतिबंधों के बारे में बात कर रहे हैं मगर दुनिया को सुन लेना चाहिए कि एसा कोई प्रतिबंध नहीं है जो ईरान को भेजी जाने वाली मानवीय सहायता और दवाओं और चिकित्सा उपकरणों की सप्लाई में रुकावट डाल रहा हो।

पोम्पेयो ईरान से अपनी दुशमनी और झूठे बयानों के लिए बदनाम हैं और उन पर अमरीका के भीतर भी यह आरोप लगाया जाता है कि ज़मीनी सच्चाई नहीं देखना चाहते।

ईरान ने कई बार अमरीका के प्रतिबंधों और अमरीकी दबाव की आलोचना की है जिसके कारण ईरान विदेशों से अपनी ज़रूरत की दवाएं और चिकित्सा उपकरण ख़रीदता है तो क़ीमत की अदाएगी इन प्रतिबंधों के कारण संभव नहीं हो पाती। ईरान ने इसे अमरीका के आर्थिक और चिकित्सा आतंकवाद का नाम दिया है।

टैग्स

कमेंट्स