May २८, २०२० १२:०० Asia/Kolkata
  • अमरीका ने ईरान के ख़िलाफ़ नए प्रतिबंध लागू करते हुए, आख़िरी छूट को भी समाप्त करने का एलान कर दिया

अमरीका ने ईरान पर अधिकतम दबाव की नीति जारी रखते हुए परमाणु समझौते के तहत प्रतिबंधों से दी गई आख़िरी छूट को भी समाप्त करने का एलान कर दिया है।

अमरीकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने एलान किया है कि परमाणु समझौते के तहत ईरान के नागरिक परमाणु कार्यक्रम में काम करने की जिन कंपनियों को प्रतिबंधों से छूट हासिल थी, 60 दिन के अंदर वह समाप्त हो जाएगी और उसके बाद उसे आगे नहीं बढ़ाया जाएगा।

मई 2018 में अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रम्प ने ईरान के साथ परमाणु समझौते से निकलने का एलान करते हुए एकपक्षीय रूप से तेहरान के ख़िलाफ़ कड़े आर्थिक प्रतिबंध लागू कर दिए थे, लेकिन रूस, चीन और यूरोपीय देशों की कंपनियों को ईरान के परमाणु प्रतिष्ठानों के साथ सहयोग करने की छूट दी थी, जिसे अब वाशिंगटन ने समाप्त करने की घोषणा कर दी।

हालांकि बुशहर परमाणु ऊर्जा संयंत्र के लिए अगले 90 दिनों के लिए अलग से छूट दी है, ताकि उसके संचालन की सुरक्षा को सुनिश्चित किया जा सके।

पिछली बार जनवरी में ट्रम्प प्रशासन ने प्रतिबंधों में छूट की अवधि को आगे बढ़ाया था। हालांकि उस समय पोम्पियो और कोष मंत्री स्टीवन मेनुचिन के बीच इसे लेकर असहमति थी। पोम्पियो छूट को समाप्त करने की वकालत कर रहे थे, जबकि मेनुचिन का कहना था कि छूट आगे भी दी जाए।

जनवरी में छूट को आगे बढ़ाकर यूरोपीय देशों के साथ टकराव को भी टाला गया था, जो परमाणु समझौते के तहत ईरान के शांतिपूर्ण परमाणु कार्यक्रम में सहयोगी जारी रखने पर बल दे रहे थे।

पोम्पियो ने छूट की समाप्ति की घोषणा करते हुए एक बार फिर ईरान पर परमाणु प्रसार के निराधार आरोप लगाए हैं।

इसी के साथ अमरीकी विदेश मंत्री ने ईरान के परमाणु कार्यक्रम से जड़े दो लोगों को भी प्रतिबंधित करने का एलान करते हुए कहाः मजीद आक़ाई और अमजद साज़गार पर भी हम प्रतिबंध लागू कर रहे हैं, जो ईरान के यूरेनियम संवर्धन को निर्देशित कर रहे हैं।

तेहरान ने हमेशा कहा है कि उसका परमाणु कार्यक्रम पूर्ण रूप से शांतिपूर्ण उद्देश्यों के लिए है, जिसकी अंतरराष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा एजेंसी और परमाणु समझौते में शामिल यूरोपीय देशों ब्रिटेन, फ़्रांस और जर्मनी समेत रूस और चीन ने पुष्टि की है। msm

टैग्स

कमेंट्स