May २८, २०२० १३:२० Asia/Kolkata
  • नई पीढ़ी की 112 स्पीड बोट्स आईआरजीसी के बेड़े में शामिल, दुश्मन को हमारी शक्ति का अंदाज़ा नहीं है, युद्ध का मैदान नरक में बदल देंगे, आईआरजीसी प्रमुख की चेतावनी

ईरानी नौसेना के बेड़े में ऐसी 100 से अधिक मिसाइल-लॉन्चिंग स्पीड बोट्स को शामिल किया गया है, जिनके डिज़ाइन से लेकर निर्माण तक का काम ईरानी विशेषज्ञों ने देश में ही अंजाम दिया है।

मिसाइल-लॉन्चिंग स्पीड बोट्स मिलने के बाद फ़ार्स खाड़ी में ईरान की नौसेना की आक्रामक शक्ति में काफ़ी वृद्धि हो गई है।

ग़ौरतलब है कि फ़ार्स खाड़ी में अमरीका के वर्चस्व को समाप्त करने में ईरानी नौसेना और आईआरजीसी की स्पीड बोट्स ने बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है और अमरीका बड़े बड़े युद्धपोतों के बावजूद, इनका कोई तोड़ पेश नहीं कर सका है।

अमरीका ने कई बार ईरान की इन स्पीड बोट्स पर अपने युद्धपोतों को परेशान करने का भी आरोप लगाया है।

गुरुवार को नई पीढ़ी की 112 आक्रामक स्पीड बोट्स का अनावरण किया गया और उन्हें आईआरजीसी की नौसेना के हवाले कर दिया गया।

आईआरजीसी की सिपाह न्यूज़ की रिपोर्ट के मुताबिक़, हाइड्रोडायनामिक फंक्शनल फ़ीचर्स से लैस यह बोट्स हाई स्पीड पर चलने में सक्षम हैं, जिनमें लो रडार क्रॉस-सेक्शन (आरसीएस) और उच्च स्तर की आक्रामक शक्ति पाई जाती है।

नई पीढ़ी की मिसाइल-लॉन्चिंग स्पीड बोट्स के अनावरण समारोह में रक्षा मंत्री अमीर हातेमी तथा आईआरजीसी प्रमुख जनरल हुसैन सलामी समेत ईरान के कई वरिष्ठ सैन्य अधिकारियों ने भाग लिया।

समारोह को संबोधित करते हुए जनरल सलामी ने रक्षा क्षेत्र में ईरान की महत्वपूर्ण प्रगति की सराहना करते हुए दुश्मन की किसी भी ग़लती का मुंह तोड़ जवाब देने की चेतावनी दी।

उन्होंने कहाः इस्लामी गणतंत्र का दृढ़ संकल्प है। हम दुश्मनों के सामने नहीं झुकेंगे। हम पीछे नहीं हटेंगे। प्रगति हमारे काम का स्वभाव है। युद्ध में रक्षा हमारा तर्क है, लेकिन इसका मतलब दुश्मन के ख़िलाफ़ कमज़ोरी नहीं है। हमारे अभियान और रणनीति आक्रामक हैं और हमने युद्ध के मैदान में यह साबित कर दिया है।

साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि ईरान की नौसेना की शक्ति के महत्वपूर्ण भाग से अभी तक दूसरे वाक़िफ़ नहीं हैं।

जनरल सुलेमानी का कहना थाः इस शक्ति का सबसे महत्वपूर्ण और ख़तरनाक भाग, अज्ञात है। हमारे दुश्मन इस शक्ति को उस दिन देखेंगे, जब वे हमारी भूमि के ख़िलाफ बुरी मंशा पर अमल करेंगे। उस दिन उन्हें समुद्र और आसमान में हमारी सेना की वास्तविक मारक क्षमता देखने को मिलेगी और युद्ध का मैदान ईरान और इस्लाम के दुश्मनों के लिए जहन्नुम में बदल जाएगा। msm

टैग्स

कमेंट्स