May २९, २०२० १०:०६ Asia/Kolkata
  • ईरान उड़ने वाली नौकाओं के निर्माण के साथ ही शहीद जनरल सुलेमानी और शहीद मोहंदिस दो बड़े युद्धपोत बना रहा है

गुरुवार को ईरानी नौसेना के बेड़े में 100 से अधिक आक्रामक मिसाइल-लॉन्चिंग स्पीड बोट्स को शामिल किए जाने के समारोह में ईरान की इस्लामी क्रांति फ़ोर्स आईआरजीसी की नौसेना के कमांडर जनरल अलीरज़ा तंगसीरी ने कहाः शहीद जनरल सुलेमानी नामक एक बड़े युद्धपोत के निर्माण के लिए सभी ज़रूरी कार्य पूरे कर लिए गए हैं।

जनरल तंगसीसी ने बताया कि इस युद्धपोत को आईआरजीसी की नौसेना के विशेषज्ञों ने डिज़ाइन किया है, जिसके निर्माण का कार्य जल्द ही शुरू कर दिया जाएगा।

उन्होंने कहाः इस युद्धपोत की लम्बाई 65 मीटर होगी। यह युद्धपोत हेलीकॉप्टर वाहक होगा।

आईआरजीसी की नौसेना के प्रमुख का कहना था कि इस युद्धपोत से सतह से सतह और सतह से हवा में मार करने वाले मिसाइल भी लॉन्च किए जा सकेंगे और इसके अलावा यह ईरान द्वारा निर्मित विभिन्न प्रकार के हथियारों से लैस होगा।

ग़ौरतलब है कि गुरुवार को ईरानी रक्षा मंत्रालय ने नई पीढ़ी की 112 आक्रामक स्पीड बोट्स का अनावरण करके उन्हें आईआरजीसी की नौसेना के हवाले कर दिया।

आईआरजीसी की सिपाह न्यूज़ की रिपोर्ट के मुताबिक़, हाइड्रोडायनामिक फंक्शनल फ़ीचर्स से लैस यह बोट्स हाई स्पीड पर चलने में सक्षम हैं, जिनमें लो रडार क्रॉस-सेक्शन (आरसीएस) और उच्च स्तर की आक्रामक शक्ति पाई जाती है।

नई पीढ़ी की स्पीड बोट्स के अनावरण के समारोह में जनरल तंगसीरी का कहना था कि आईआरजीसी की नौसेना ने इराक़ के स्वयं सेवी बल हशदुश्शाबी के डिप्टी कमांडर शहीद अबू मेहदी अल-मोहंदिस के नाम से भी एक युद्धपोत को डिज़ाइन किया है, जिसका निर्माण निकट भविष्य में शुरू हो जाएगा।

उन्होंने आईआरजीसी की नौसेना द्वारा उड़ान भरने वाली नौकाओं के निर्माण का एलान करते हुए कहा कि रक्षा उद्योग में ईरान ने आश्चर्यचकित करने वाली प्रगति की है।

आईआरजीसी की नौसेना के इसी समारोह को संबोधित करते हुए आईआरजीसी प्रमुख जनरल हुसैन सलामी ने कहा था कि हमारी रक्षा रणनीति आक्रामक है और हमने युद्ध के मैदान में यह साबित कर दिया है।

उनका यह भी कहना था कि ईरान की नौसेना की शक्ति के महत्वपूर्ण भाग से हमारे दुश्मन अभी तक अवगत नहीं हैं और वक़्त आने पर वह हमारी शक्ति के इस भाग को भी देख लेंगे। msm

टैग्स

कमेंट्स