Sep १९, २०२० १९:०६ Asia/Kolkata
  • पोम्पियो की ईरान को धमकी, फ़ार्स खाड़ी पहुंचा अमरीकी विमान वाहक युद्धपोत, तेहरान ने जारी की चेतावनी

पिछले 10 महीनों में पहली बार, अमरीकी विमान वाहक युद्धपोत यूएसएस निमिट्ज़ ने स्ट्रेट ऑफ़ हुर्मुज़ के रास्ते, फ़ार्स खाड़ी में प्रवेश किया, इसी के साथ वाशिंगटन ने एकतरफ़ा तौर पर ईरान के ख़िलाफ़ राष्ट्र संघ के हथियारों के प्रतिबंधों को आगे बढ़ाने की दी है।

शुक्रवार को अमरीका के पांचवे बेड़े ने एक बयान जारी करके कहा है कि यूएसएस निमिट्ज़ के नेतृत्व में हमलावर समूह और दो गाइडेड-मिसाइल क्रूज़र और एक गाइडेड-मिसाइल विध्वंसक, अमरीकी सहयोगियों के साथ काम करने और उन्हें प्रशिक्षण देने के लिए फ़ार्स की खाड़ी के लिए रवाना हुए हैं।

बयान में कहा गया है कि हम फ़ार्स खाड़ी में रहते हुए अपने क्षेत्रीय और गठबंधन के सहयोगियों का समर्थन जारी रखेंगे।

दर असल अमरीका, सामान्य रूप से फ़ार्स खाड़ी में अपने विमान वाहक युद्धपोत भेजता रहता है, लेकिन नवम्बर 2019 में यूएसएस अब्राहम लिंकन के फ़ार्स खाड़ी से जाने के बाद, यह पहली बार है कि निमिट्ज़ स्ट्राइक ग्रूप यहां पहुंचा है।

कुछ दिन पहले  ही अमरीकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने ईरान के ख़िलाफ़ संयुक्त राष्ट्र संघ के हथियारों के प्रतिबंधों को जारी रखने की धमकी दी थी, जो 18 अक्तूबर से समाप्त हो रहे हैं।

ईरान परमाणु समझौते में शामिल विश्व की शक्तियों और सुरक्षा परिषद के सदस्यों ने स्पष्ट कर दिया है कि अमरीका को इसका कोई अधिकार नहीं है, लेकिन ट्रम्प प्रशासन अकेले ही संयुक्त राष्ट्र संघ के प्रतिबंधों को लागू करने का दावा कर रहा है।

मंगलवार को पोम्पियो ने कहा था कि अमरीका, ईरान को चीन और रूस से हथियार और सैन्य उपकरण नहीं ख़रीदने देगा, जबकि अंतरराष्ट्रीय क़ानूनों के साथ खिलवाड़ करने के लिए तेहरान ने वाशिंगटन को चेतावनी जारी की है।

पोम्पियो का दावा था कि हम इस बात की अनुमति नहीं देंगे कि ईरान रूस और चीन से हथियार ख़रीदकर हिज़्बुल्लाह के हवाले करे।

उसके अगले दिन फिर पोम्पियो ने धमकी दी कि अगले हफ़्ते हम इस बात को सुनिश्चित बनायेंगे कि ईरान के ख़िलाफ़ राष्ट्र संघ के प्रतिबंध आगे भी जारी रहें।

ईरानी विदेश मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी नबी आज़ादी ने वाशिंगटन की धमकियों पर कड़ी प्रतिक्रिया जताते हुए कहा है कि अमरीका की ग़ैर क़ानूनी हरकतों के भयानक परिणाम निकलेंगे और अगर ईरान पर किसी तरह का हमला हुआ तो उसका मुंह तोड़ जवाब दिया जाएगा। msm

टैग्स

कमेंट्स