Sep २०, २०२० १५:०९ Asia/Kolkata
  • विश्व शांति के लिए अमेरिका सबसे बड़ा ख़तराः ईरान

इस्लामी गणतंत्र ईरान के विदेश मंत्रालय ने अमेरिका द्वारा प्रतिबंधों के फिर से लागू किए जाने के असफल प्रयासों पर अपनी प्रितिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि, अमेरिका पूरी दुनिया की शांति व स्थिरता के लिए सबसे बड़ा ख़तरा है।

ईरान के विदेश मंत्रालय ने रविवार को एक बयान जारी करके कहा है कि, अमेरिका आज ऐसी स्थिति में यह झूठा दावा कर रहा है कि वह सुरक्षा परिषद के प्रस्तावों के अनुसार ईरान के ख़िलाफ़ प्रतिबंधों को वापस ले आएगा कि स्वयं सुरक्षा परिषद ने परमाणु समझौते से उसके एकपक्षीय तौर पर निकल जाने के बाद उसको जेसीपीओए का सदस्य मानने से इंकार कर दिया है और साथ ही उसके द्वारा ईरान के ख़िलाफ़ ट्रिगर मैकेनिज़्म के इस्तेमाल की मांग को भी सुरक्षा परिषद रद्द कर चुका है। विदेश मंत्रालय का कहना है कि यह प्रक्रिया कभी शुरू ही नहीं हुई कि आज अपने अंजाम पर पहुंचेगी।

ईरान के विदेश मंत्रालय ने अपने बयान में कहा है कि, अमेरिका के विदेश मंत्री स्वयं इस बात को जानते हैं कि ईरान के ख़िलाफ़ फिर से सुरक्षा परिषद के प्रतिबंधों के लागू होने का उनका दावा निराधार, आमान्य और ग़ैर क़ानूनी है। यही कारण है कि वह उन देशों को भी धमकी दे रहा है जो सुरक्षा परिषद के प्रस्तावों का पालन करने की बात कर रहे हैं। सुरक्षा परिषद में अमेरिका की हार का यह स्यवं एक बहुत बड़ा सबूत है। ईरान ने हालिया दिनों में अमेरिकी विदेश मंत्री द्वारा ग़ुस्से से भरे बयानों को घरेलू राजनीतिक उठापटक, कमज़ोरी, निराशा और हाल के महीनों में अंतर्राष्ट्रीय समुदाय से लगातार "नहीं" सुनने का परिणाम बताया और कहा कि यह सक्रिय ईरानी कूटनीति के सामने लगातार विफलताओं का कारण है कि वह इस तरह की प्रतिक्रिया दे रहे हैं। विदेश मंत्रालय ने कहा कि हम अमेरिकी राष्ट्रपति को सलाह देते हैं कि वे वैश्विक स्थिति से अपरिचित अज्ञानी लोगों की सलाह का पालन करते हुए अपने और अपने देश को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अलग-थलग न करें।

ईरान के विदेश मंत्रालय ने अपने बयान में कहा कि अमेरिका इस समय जहां विश्व शांति के लिए सबसे बड़ा ख़तरा बन गया है वहीं अभूतपूर्व तरीक़े से वह संयुक्त राष्ट्र संघ और सुरक्षा परिषद के लिए भी चुनौती खड़ी करने लग गया है। ईरान के विदेश मंत्रालय ने अपने बयान में कहा कि यदि अमेरिका, स्वयं या अपने मुट्ठी भर सहयोगियों के साथ मिलकर इसी तरह दुनिया की शांति व स्थिरता को ख़तरे में डालता रहा तो उसको बहुत जल्त गंभीर परिणाम भुगतने होंगे और इन सभी ख़तरनाक परिणामों के लिए वह ख़ुद ज़िम्मेदार होगा। (RZ)

 

टैग्स

कमेंट्स