Sep ३०, २०२० ११:५१ Asia/Kolkata
  • अरे मेरे भाई, आप ने न तो युद्ध किया और न ही बलिदान दिया, थकन किस बात कीः सैयद हसन नसरुल्लाह

लेबनान के इस्लामी प्रतिरोध संगठन हिज़्बुल्लाह के महासचिव ने कहा है कि इराक़ सीरिया और अन्य क्षेत्रों में दाइश को फिर से जीवित करने का अभियान चल रहा है।

सैयद हसन नसरुल्लाह ने मंगलवार की रात अपने संबोधन में कुवैत नरेश के निधन पर सांत्वना देते हुए कहा कि क्षेत्र में अमरीकी सैनिकों को बाक़ी रखने के लिए दाइश को फिर से ज़िंदा किया जा रहा है।

उन्होंने कहा कि मेरी सबसे अपील है कि क्षेत्र के विरुद्ध हो रही साज़िशों पर होशियार रहें।

उनका कहना था कि सीरिया में हिज़्बुल्लाह के एक जवान की शहादत के बाद जवाबी कार्यवाही के भय से इस्राईली सैनिकों को हाई अलर्ट कर दिया गया है।

उन्होंने देश के राजनैतिक संकट की ओर संकेत करते हुए कहा कि फ़्रांस लेबनान के आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप कर रहा है। उनका कहना था कि लेबनान के कुछ लोग लेबनान के समस्त राजनैतिक धड़ों को समाप्त करके क़ानून बदलकर सरकार का गठन करना चाहते हैं। उनका कहना था कि सभी को पता है कि नसरुल्लाह अपने वादों का पक्का है और हमने कोई ऐसा वादा नहीं किया जिस पर अमल न किया हो।

उनका कहना था कि लोकतंत्र ने 2018 में बहुमत हासिल किया और फ़्रांस के राष्ट्रपति मैक्रां बहुमत के मुक़ाबले में अल्पमत के सामने सिर झुकाना चाहते हैं।  

सैयद हसन नसरुल्लाह ने कहा कि मैक्रां को पता है कि अमरीकी प्रतिबंधों और संयुक्त राष्ट्र संघ में सऊदी अरब के बयान ने उनकी पहल को विफल बना दिया।

सैयद हसन नसरुल्लाह ने इस्राईल के साथ संबंधों को सामान्य करने के कुछ अरब देशों के प्रयासों की ओर संकेत करते हुए कहा कि इस्राईल के साथ सांठगांठ करने का इमारात ने औचित्य पेश करते हुए कहा कि अब हम युद्ध और बलिदान से थक गये हैं, अरे भाई न तो आपने युद्ध किया और न ही बलिदान दिया।

उन्होंने सूडान की जनता ने अपील की कि दुश्मन इस्राईल के साथ संबंधों को सामान्य बनाने की अनुमति न दें। उनका कहना था कि बहरैन की सरकार के पास फ़ैसला करने का अधिकार नहीं है और वह ऐसे अमल करता है जैसे सऊदी अरब का एक प्रांत हो।

लेबनान के हिज़्बुल्लाह संगठन के महासचिव ने अंत में सीरिया में हिज़्बुल्लाह की गतिविधियों पर लगे आरोपों के बारे में कहा कि हमने सीरिया में कभी भी आम नागरिकों को निशाना नहीं बनाया बल्कि तकफ़ीरी आतंकवादियों से संघर्ष किया है। (AK)

ताज़ातरीन ख़बरों, समीक्षाओं और आर्टिकल्ज़ के लिए हमारा फ़ेसबुक पेज लाइक कीजिए!

हमारा व्हाट्सएप ग्रुप ज्वाइन करने के लिए क्लिक कीजिए

हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब कीजिए!

इंस्टाग्राम पर हमें फ़ालो कीजिए

टैग्स

कमेंट्स