Oct २१, २०२० १८:०५ Asia/Kolkata
  • अमरीका का जो भी राष्ट्रपति बने उसे हमारे सामने तो झुकना ही होगा , राष्ट्रपति रूहानी

इस्लामी गणतंत्र ईरान के राष्ट्रपति ने ईरान के खिलाफ हथियारों के प्रतिबंधों के अंत को, गुंडागर्दी पर तर्क व बुद्धि की जीत बताया है।

राष्ट्रपति रूहानी ने बुधवार को मंत्रिमंडल की बैठक में कहा कि अमरीकियों ने ईरानी जनता को उनके अधिकारों से वंचित रखने के लिए बरसों तक कोशिश की लेकिन उन्हें पराजय हुई और उनका मक़सद पूरा नहीं हो पाया। 

राष्ट्रपति रूहानी ने कहा कि इस बात का कोई महत्व नहीं है कि ईरान कितना हथियार खरीदेगा या कितना बेचेगा, महत्वपूर्ण यह है कि इस्लामी गणतंत्र ईरान को उसका हक़ मिल गया। 

राष्ट्रपति रूहानी ने इसी तरह परमाणु समझौते से उसके सदस्यों को निकालने के लिए अमरीका और इस्राईल की कोशिशों का उल्लेख करते हुए कहा कि अमरीका, ईरान पर हथियारों के प्रतिबंध की समय सीमा बढ़ाने के सिलसिले में भी अकेला पड़ गया है क्योंकि संयुक्त राष्ट्र संंघ की सुरक्षा परिषद ने भी अमरीकियों की मांग पर ध्यान नहीं दिया। 

राष्ट्रपति रूहानी ने कहा कि ईरान ने इतनी सूझ बूझ के साथ परमाणु समझौते के सिद्धान्तों के आधार पर समझौते के पालन में कमी की कि दोस्त दुश्मन कोई भी आपत्ति नहीं कर पाया। 

राष्ट्रपति रूहानी ने कहा कि ईरान के बारे अमरीका का रास्ता पूरी तरह से गलत है और ईरान के लिए यह बिल्कुल अहम नहीं कि अमरीका में कौन सी पार्टी और कौन राष्ट्रपति चुनाव जीतता है क्ोंकि जो भी आएगा उसे ईरानी राष्ट्र के सामने झुकना ही पड़ेगा और उसके सामने और कोई रास्ता नहीं है। Q.A.

ताज़ातरीन ख़बरों, समीक्षाओं और आर्टिकल्ज़ के लिए हमारा फ़ेसबुक पेज लाइक कीजिए!

हमारा व्हाट्सएप ग्रुप ज्वाइन करने के लिए क्लिक कीजिए

हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब कीजिए!

इंस्टाग्राम पर हमें फ़ालो कीजिए

टैग्स

कमेंट्स