Oct २३, २०२० १८:१२ Asia/Kolkata
  • ईरान ने बताया कि वह किन देशों को बेचेगा हथियार

संयुक्त राष्ट्र संघ के हथियारों के प्रतिबंध हटने के बाद, ईरान ने कहा है कि वह अपनी शर्तों पर दूसरे देशों को हथियार बेचेगा और इसके लिए अतंरराष्ट्रीय क़ानूनों का पूरी तरह से पालन किया जाएगा।

ईरानी सरकार के प्रवक्ता अली रबीई ने कहा है कि जो देश, ईरान से हथियार ख़रीदना चाहते हैं, उन्हें ज़िम्मेदाराना रवैया दिखाना होगा और युद्धों की आग भड़काने से बचना होगा, बल्कि अपनी रक्षा के लिए हथियार ख़रीदने होंगे।

उन्होंने कहा कि ईरान, अंतर्राष्ट्रीय नियमों और क़ानूनों का पालन करते हुए ही अपने हथियार बेचने का फ़ैसला करेगा।

रबीई का कहना था कि मूल रूप से हम हथियारों के प्रशंसक नहीं हैं, हम शांति प्रिय राष्ट्र हैं और हमारा मानना है कि इस क्षेत्र को हथियारों का भंडार नहीं बनाना चाहिए।

उन्होंने कहा कि अमरीका की नीति है कि वह हमारे क्षेत्र को हथियारों का गोदाम बना दे और हथियारों का निर्माण करने वाली अमरीकी कंपनियों को अधिक से अधिक लाभ पहुंचाए। उन्होंने हमेशा अपने हितों को इंसानी जानों पर प्राथमिकता दी है।

ईरानी सरकार के प्रवक्ता का कहना था कि तेहरान की नीति रक्षात्मक है, और ईरान ने पिछली कई शताब्दियों के दौरान, किसी भी देश के ख़िलाफ़ युद्ध नहीं छेड़ा है।

पिछले ही हफ़्ते, ईरान के रक्षा मंत्री ब्रिगेडियर जनरल अमीर हातेमी ने कहा था कि ईरान, उन देशों को हथियार बेचेगा, जो अत्याचार से मुक़ाबला कर रहे हैं और अपने वजूद की लड़ाई लड़ रहे हैं।

उन्होंने बताया था कि कई देशों ने हथियार ख़रीदने के लिए तेहरान से संपर्क किया है और कुछ देशों से हथियारों के समझौते के लिए बातचीत भी चल रही है।

उनका कहना था कि ईरान, ख़रीदने से ज़्यादा हथियार बेचेगा, इसलिए कि अमरीकी प्रतिबंधों के बावजूद वह रक्षा क्षेत्र में काफ़ी हद तक आत्मनिर्भर बन चुका है। msm

टैग्स

कमेंट्स