Oct २५, २०२० १९:२० Asia/Kolkata
  • आज़रबाइजान और आर्मेनिया से लगने वाली सीमाओं पर ईरान ने सेना तैनात कर दी

ईरान की इस्लामी क्रांति फ़ोर्स आईआरजीसी ने आज़रबाइजान और आर्मेनिया से लगने वाली सीमा पर फ़ौजी और टैंक तैनात कर दिए हैं।

दर असल आज़रबाइजान के विवादित क्षेत्र नागोर्नो-काराबाख़ को लेकर आर्मेनिया और आज़रबाइजान के बीच क़रीब पिछले एक महीने से संघर्ष जारी है। इस दौरान, कई गोले और ड्रोन विमान ईरान की सीमा में भी आकर गिरे हैं। तेहरान ने पहले ही दोनों पड़ोसी देशों को चेतावनी दी थी कि वह जाने या अनजाने में ईरानी नागरिकों को किसी भी तरह का नुक़सान पहुंचाने से बचें।

रविवार को आईआरजीसी ने कहा है कि सीमावर्ती इलाक़ों ख़ुदा आफ़रीन और जोलफ़ा में ग्राउंड फ़ोर्स की इमाम-ए ज़मान मैकेनाइज़्ड ब्रिगेड को टैंकों और अन्य सैन्य उपकरणों के साथ तैनात कर दिया गया है।

आआरजीसी का कहना है कि दश की उत्तर-पश्चिमी सीमाओं की सुरक्षा के प्रति सावधानी बरतने के लिए यह तैनाती की गई है।

आआरजीसी के एक अधिकारी ने बताया कि देश की रक्षा और अखंडता की रक्षा और जो नागरिक इन क्षेत्रों में रह रहे हैं, उनकी सुरक्षा के लिए सैनिकों को तैनात किया गया है।

आईआरजीसी की ग्राउंड फ़ोर्स के कमांडर मोहम्मद पाकपूर ने शनिवार को ईरान की पश्चिमी सीमा का दौरा करते हुए चेतावनी दी थी कि अगर हमारी सीमाओं को कोई ख़तरा हुआ तो हम उसका उचित जवाब देंगे।

नागोर्नो-काराबाख़ को लेकर ईरान के दो पड़ोसी देशों आज़रबाइजान और आर्मेनिया के बीच 27 सितम्बर से शुरू हुए युद्ध में अब तक 1,000 से भी ज़्यादा लोग मारे जा चुके हैं।

दोनों देशों के बीच दो बार युद्ध विराम लागू करने की घोषणा की गई, लेकिन इसके बावजूद लड़ाई जारी है। सूत्रों के मुताबिक़, रविवार की सुबह दोनों देशों की सेनाओं ने एक दूसरे पर भीषण हमले किए हैं। msm

टैग्स

कमेंट्स