Oct २७, २०२० १८:४१ Asia/Kolkata
  • मैक्रां की इस्लाम दुश्मनी का मुक़ाबला करने के लिए ईरान और सऊदी अरब एक मंच पर

इस्लाम और पैग़म्बरे इस्लाम के ख़िलाफ़ फ़्रांसीसी राष्ट्रपति इमानुएल मैक्रां का विरोध बढ़ता ही जा रहा है और ईरान और सऊदी जैसे दो बड़े मुस्लिम देश एक आवाज़ में इस्लामोफ़ोबिया फैलाने की निंदा कर रहे हैं।

ईरान और सऊदी अरब को एक दूसरे का कट्टर प्रतिद्वंद्वी समझा जाता है, लेकिन दोनों ही देशों के नेताओं ने फ़्रांसीसी राष्ट्रपति के इस्लाम विरोधी बयान की निंदा की है।

मैक्रां ने अक्तूबर के शुरू में पैग़म्बरे मोहम्मद (स) के अपमानजनक कार्टून के पुनः प्रकाशन का समर्थन करते हुए कहा था कि इस्लाम न केवल फ़्रांस, बल्कि पूरी दुनिया में संकट में है।

इसी तरह से पिछले हफ़्ते पेरिस में अपमानजनक कार्टूनों को इंटरनेट पर अपने छात्रों के साथ साझा करने वाले एक शिक्षक सैमुएल पैटी का एक मुस्लिम छात्र द्वारा सिर काट दिए जाने के बाद, फ़्रांसीसी राष्ट्रपति ने कहा था कि पैटी को इसलिए मार दिया गया, क्योंकि इस्लामवादी हमारा भविष्य अपने हाथों में लेना चाहते हैं।

अभिव्यक्ति की आज़ादी का दावा करते हुए उन्होंने कहा था कि फ़्रांस हार नहीं मानेगा और इस तरह के (अपमानजक) कार्टूनों का प्रकाशन जारी रहेगा।  

मंगलवार को ईरानी विदेश मंत्रालय ने तेहरान स्थित फ़्रांसीसी राजदूत को तलब करके मैक्रां की टिप्पणी पर कड़ी आपत्ति दर्ज की।

इससे एक दिन पहले ही ईरानी विदेश मंत्री मोहम्मद जवाद ज़रीफ़ ने ट्वीट करके मुसलमानों पर अत्याचार करने के लिए फ़्रांस को औपनिवेशिक शासन बताते हुए उसकी निंदा की थी। उन्होंने कहा था कि अभिव्यक्ति की आज़ादी का दुरुपयोग करके यह शासन कट्टरवाद को बढ़ावा दे रहा है और 1.9 अरब मुसलमानों का अपमान कर रहा है।

मंगलवार ही को सऊदी विदेश मंत्रालय ने इस्लाम को आतंकवाद से जोड़ने के किसी भी प्रयास को ख़ारिज करते हुए अपमानजक क़ानूनों के प्रकाशन को अपराध क़रार दिया।

सऊदी विदेश मंत्रालय के बयान में कहा गया है कि हम नफ़रत, हिंसा और कट्टरवाद को फैलाने की कड़ी निंदा करते हैं, और लोगों के बीच सद्भावना को बिगाड़ने को अस्वीकार करते हैं।

इससे पहले कई मुस्लिम देशों के नेता फ़्रांसीसी राष्ट्रपति के बयान की निंदा कर चुके हैं और इस्लामी जगत में फ़्रांस के उत्पादों के बहिष्कार के लिए आंदोलन भी चलाया जा रहा है।

तुर्की के राष्ट्रपति रजब तैयब अर्दोगान ने मैक्रां की मानसिक स्थिति पर सवाल करते हुए कहा था कि उन्हें इलाज की ज़रूरत है।

तुर्क राष्ट्रपति ने अपने देश के नागरिकों से फ़्रांसीसी उत्पाद नहीं ख़रीदने की भी अपील की है। msm

टैग्स

कमेंट्स