Nov ०४, २०२० १८:२७ Asia/Kolkata
  • क्या जनरल क़ासिम सुलैमानी की हत्या करने वालों का  शिकार शुरु हो गया है? अमरीकी खुफिया एजेन्सी ने जारी की चेतावनी,  रूसी न्यूज़ एजेन्सी की चौंकाने वाली रिपोर्ट

ईरान ने हमेशा यही कहा है कि अभी  शहीद क़ासिम सुलैमानी की हत्या का बदला पूरा नहीं हुआ है। इस सिलसिले में रूसी न्यूज़ एजेन्सी स्पूतनिक की परशियन सेवा ने एक रोचक रिपोर्ट प्रकाशित की है।

हालिया दिनों में ऐसी खबरें आयी हैं कि अमरीका की सुरक्षा एजेन्सियों ने जनरल क़ासिम सुलैमानी की हत्या में शामिल सभी लोगों को औपचारिक रूप से चेतावनी दी है कि उनपर हमला हो सकता है और उनकी हत्या की जा सकती है इस लिए वह विदेश यात्रा के दौरान बहुत अधिक सतर्क रहें, यात्रा से पहले सुरक्षा एजेन्सियों को सूचना दें और जहां तक संभव हो अपनी यात्रा गुप्त रखें।

हालिया दिनों में अमरीका के रक्षा मंत्री माइक स्पर ने बहरैन की यात्रा  की थी लेकिन उन्हें मजबूर होकर अंतिम समय तक अपनी यात्रा की खबर को छुपाना पड़ा और उन्होंने चुपचाप बहरैन की यात्रा की ताकि ईरान द्वारा किसी भी प्रकार की बदले की कार्यवाही से बचे रहें।

ज़ाहिर सी बात है अगर अमरीकी खुफिया एजेन्सियों को यह यक़ीन न होता कि ईरान की खुफिया एजेन्सी ने जनरल क़ासिम सुलैमानी की हत्या में शामिल सभी अमरीकी अधिकारियों का पता लगा लिया है तो वह कभी इस प्रकार की चेतावनी जारी नहीं करती।

यही वजह है कि जब अफगानिस्तान में लगभग 7 महीने पहले अमरीकी विमान तबाह हुआ तो यह कहा गया कि उसमें माइकल एन्ड्रिया नामक एक वरिष्ठ अमरीकी अधिकारी भी मारा गया। बहुत से लोगों का कहना है कि माइकल एन्ड्रिया हिज़्बुल्लाह के एमाद मुग़निया और इसी तरह जनरल क़ासिम सुलैमानी की हत्या के योजनाकार थे और जो विमान अफगानिस्तान में तबाह हुआ उसी विमान में बैठ कर उन्होंने इस आप्रेशन की कमान संभाली थी।

 

अगर यह बात सही हुई तो इस से यह साबित होता है कि ईरानियों ने जनरल क़ासिम सुलैमानी की हत्या का बदला लेने के लिए अमरीकी छावनी पर मिसाइलों की बारिश और उस विमान को तबाह करने पर ही संतोष नहीं किया जो इस हत्या के लिए इस्तेमाल हुआ था और अब वह उन सब को एक एक करके शिकार करना चाह रहे हैं  जो इस आतंकवादी कार्यवाही में शामिल थे।

माइकल एन्ड्रिया, अमरीका का बेहद रहस्यमय अधिकारी था जो सुरक्षा के सारे मानकों का ध्यान रखता था लेकिन फिर भी लगता है कि ईरानियों ने उसका शिकार कर लिया तो फिर अब जो लोग बचे हैं उन्हें उससे भी अधिक सुरक्षा का उपाय करना होगा।

ईरान की न्यायपालिका ने भी कुछ महीने पहले कुछ एसे लोगों की लिस्ट इंटरपोल को दी थी जो जनरल क़ासिम सुलैमानी की हत्या में शामिल थे तो ज़ाहिर सी बात है कि लिस्ट में मौजूद लोगों को राजनीतिक सुरक्षा प्राप्त है तो उसके खत्म होने के बाद उन के खिलाफ कार्यवाही संभव हो जाएगी।

अमरीका ने एक देश के सरकारी अधिकारी की एक अन्य देश की कूटनैतिक पास्पोर्ट के साथ सरकारी यात्रा के दौरान हत्या की है जो निश्चित रूप से एक आतंकवादी कार्यवाही है और अमरीकी राष्ट्रपति ने न केवल यह कि इस हत्या को स्वीकार किया है बल्कि बार बार उस पर गर्व भी किया है। शायद उनके सलाहकारों ने उन्हें यह नहीं बताया कि उनका यही एलान, अंतरराष्ट्रीय न्यायालय में उनके खिलाफ सुबूत बन सकता है और इसके साथ ही वह ईरान को यह अधिकार दे रहे हैं कि वह भी इसी तरह की कोई कार्यवाही करे।

इस तरह से ईरान अब जनरल क़ासिम सुलैमानी की हत्या में शामिल सभी लोगों के खिलाफ कानूनी कार्यवाही कर सकता है और इसी तरह उन्हें जहां भी पाए गिरफ्तार कर सकता है और अगर वह विरोध करें तो उन्हें मार भी सकता है क्योंकि उन्होंने स्वंय अपना अपराध स्वीकार किया है।

यहां पर एक बात बेहद ध्यान योग्य है और वह यह कि ईरानी खुफिया एजेन्सी किस तरह से इतने जल्दी उन सभी अमरीकी अधिकारियों  का नाम पता करने में सफल हो गयी जो जनरल सुलैमानी की हत्या में शामिल थे? क्योंकि इन सभी लोगों को निश्चित रूप से बेहद कड़ी सुरक्षा में रखा गया होगा और उनके नाम भी गुप्त रखने की पूरी कोशिश की गयी होगी लेकिन फिर भी ईरानियों ने इसका पता लगा लिया जिससे पता चलता है कि ईरानी अमरीका में कहां तक  घुसे हैं।

अब जनरल सुलैमानी की हत्या में लिप्त सभी अमरीकी अधिकारियों ने अपनी आखिरी सांस तक इस डर में जीवन गुज़ारना पड़ेगा कि न जाने कब वह ईरानी बदले का शिकार हो जाएं क्योंकि अमरीकी खुफिया एजेन्सी की रिपोर्ट निराधारा नहीं हो सकती और निश्चित रूप से उनमें से हरेक को खतरा है।

अगर इन लोगों को शिकार बना लिया गया तो फिर अमरीकियों की यह गलतफहमी भी दूर हो जाएगी कि अगर वह किसी विमानवाहक युद्धपोत पर बैठक कर किसी ड्रोन विमान से दुनिया के किसी हिस्से में एक इन्सान की हत्या कर देंगे तो उन्हे कुछ नुक़सान नहीं पहुंचेगा। Q.A.

ताज़ातरीन ख़बरों, समीक्षाओं और आर्टिकल्ज़ के लिए हमारा फ़ेसबुक पेज लाइक कीजिए!

हमारा व्हाट्सएप ग्रुप ज्वाइन करने के लिए क्लिक कीजिए

हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब कीजिए!

इंस्टाग्राम पर हमें फ़ालो कीजिए

 

 

 

 

 

टैग्स