Nov २४, २०२० ११:३८ Asia/Kolkata
  • आयत क्या कहती हैं? तुम अपने भीतर एक ऐसी शक्ति को पहचानते हो जो तुम्हारी समस्याओं को दूर कर सकती है।

जब तुम समस्याओं और कठिनाइयों में घिर जाते हो और सभी दरवाज़े तुम पर बंद हो जाते हैं तो तुम्हें किसका सहारा होता है?

सूरए नम्ल की आयत क्रमांक 62 का अनुवाद:

क्या (तुम्हारे द्वारा ठहराए गए ईश्वर के समकक्ष बेहतर हैं) या वह जो व्यग्र की पुकार सुनता है, जब वह उसे पुकारे और दुख दूर कर देता है और तुम्हें धरती में उत्तराधिकारी बनाता है? क्या अल्लाह के साथ कोई और पूज्य है? तुम कितना कम उपदेश स्वीकार करते हो

 

संक्षिप्त टिप्पणी:

अगर वह किसी नौका पर सवार हो और समुद्र की भयानक लहरें उसकी जान को ख़तरे में डाल दें तो उस समय वह ईश्वर के अलावा किसे पुकारता है और ईश्वर के अतिरिक्त किससे मुक्ति की आशा रखता है?

 

इस आयत से मिलने वाले पाठ:

  1. ईश्वर को पहचानने का एक मार्ग, जीवन की कठिन परिस्थितियों में एक मुक्तिदाता शक्ति पर ध्यान देना है।

  2. ईश्वर ने मनुष्य को धरती का शासक बनाया है और उसे धरती को नियंत्रित करने की शक्ति और संभावनाएं प्रदान की हैं।

टैग्स