Mar ०८, २०२१ १६:१३ Asia/Kolkata
  • सऊदी अरब के तेल प्रतिष्ठानों पर यमनी ड्रोन और बैलिस्टिक हमलों के बाद तेल की क़ीमतों में उछाल

सऊदी अरब ने स्वीकार किया है कि एक यमनी ड्रोन ने रास तनुरा बंदरगाह स्थित एक पेट्रोलियम टैंक और एक बैलिस्टिक मिसाइल ने दहरान शहर स्थित अरामको कंपनी की तेल सुविधाओं को निशाना बनाया है।

रविवार को जारी किए गए एक बयान में सऊदी पैट्रोलियम मंत्रालय के प्रवक्ता ने रास तनुरा और दहरान में यमनी हमले की पुष्टि की है।

हालांकि सऊदी प्रवक्ता ने दावा किया कि इन दोनों ही हमलों में किसी भी तरह का कोई जानी व माली नुक़ासन नहीं हुआ है।

सऊदी रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता ब्रिगेडियर जनरल तुर्की अल-फ़ैसल अल-मलिकी ने भी दावा किया कि दोनों ही हमलों में ड्रोन और मिसाइल को लक्ष्य पर पहुंचने से पहले ही मार गिराया गया।

अल-मलिकी का कहना थाः ड्रोन विमान समुद्र के ऊपर से आया था, जिसे टारगेट पर पहुंचने से पहले ही इंटरसेप्ट कर लिया गया। बैलिस्टिक मिसाइल को दहरान स्थित अरामको कंपनी को निशाना बनाने के लिए फ़ायर किया गया, लेकिन उसे भी हवा में ही मार गिराया गया।

इस हमले की ख़बर का तेल बाज़ार पर भी असर हुआ है और तेल की क़ीमतों में वृद्धि देखने में आई है।

सोमवार को एक साल से अधिक समय में पहली बार ब्रेंट क्रूड 70 डॉलर प्रति बैरल से ऊपर पहुंच गया। ब्रेंट 2.65% उछलकर 71.20 डॉलर पर कारोबार कर रहा है, वहीं यूएस क्रूड भी 2.56% बढ़कर 67.78 डॉलर तक पहुंच गया है।

इस बीच, यमनी सेना और स्वयं सेवी बलों की जवाबी कार्यवाही के मद्देनज़र, अमरीका ने सऊदी अरब में अपने नागरिकों के लिए अलर्ट जारी किया है। msm

टैग्स