Apr १९, २०२१ १४:५८ Asia/Kolkata
  • ईरान सऊदी अरब के साथ वार्ता का स्वागत करता है मगर ईरान और अमेरिका के मध्य किसी प्रकार की वार्ता नहीं हो रही हैः ख़तीबज़ादे

सईद ख़तीबज़ादे ने कहा कि ईरान और सऊदी अरब के मध्य वार्ता दोनों देशों के लोगों के हित में है और वह क्षेत्रीय शांति व सुरक्षा में मददगार बनेगी।

विदेशमंत्रालय के प्रवक्ता ने इराक़ में ईरान और सऊदी अरब के मध्य वार्ता की रिपोर्टों के बारे में कहा कि हमने संचार माध्यमों में देखा कि इस बारे में विरोधाभासी ख़बरें प्रकाशित हुई हैं, ईरान सऊदी अरब के साथ वार्ता का स्वागत करता है और यह चीज़ दोनों देशों के लोगों के हित में है।

समाचार एजेन्सी तसनीम की रिपोर्ट के अनुसार सईद ख़तीबज़ादे ने वर्चुअल प्रेस कांफ्रेन्स में वियना में जारी वार्ता की ओर संकेत किया और कहा कि पिछले गुरूवार को परमाणु समझौते के संयुक्त आयोग की बैठक आरंभ हुई थी जो अब भी जारी है।

इसी प्रकार ईरान के विदेशमंत्रालय के प्रवक्ता ने विदेशमंत्री मोहम्मद जवाद ज़रीफ़ की इंडोनेशिया की यात्रा की ओर संकेत किया और कहा कि दोनों देशों के मध्य संबंध स्थापित हुए कल 70 साल हो गये और विदेशमंत्री की इंडोनेशिया यात्रा के दौरान दोनों देशों के मध्य संबंधों को बेहतर बनाने और इस संबंध में मौजूद रुकावटों को दूर करने के संदर्भ में विचारों का आदान- प्रदान किया गया।

उन्होंने वियना वार्ता के बारे में कहा कि जो कुछ वियना में हो रहा है वह अमेरिका के अत्याचारपूर्ण प्रतिबंधों को समाप्त कराने और परमाणु समझौते में अमेरिका के वापस आने के बारे में तकनीकी वार्ता है। उन्होंने कहा कि इस संबंध में प्रगति भी हुई है परंतु इसका मतलब मतभेदों की समाप्ति नहीं है।

उन्होंने कहा कि जो चीज़ महत्वपूर्ण है वह यह है कि ईरान ने परमाणु समझौते के संयुक्त आयोग की बैठक में अपने दृष्टिकोणों को पेश किया है और अगर अमेरिका ट्रम्प की विफल नीति से दूरी बनाने का फैसला लेता है और अपने वचनों का पालन करता है तो निश्चित रूप से वार्ता में प्रगति होगी।

विदेशमंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि वियना में ईरान और अमेरिका के मध्य परोक्ष या अपरोक्ष रूप से किसी प्रकार की कोई वार्ता नहीं हो रही है।

अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडेन ने दावा किया था कि वियना में ईरान और अमेरिका के बीच परोक्ष वार्ता हो रही है।

जब इसके बारे में विदेशमंत्रालय के प्रवक्ता से पूछा गया तो उन्होंने इसके जवाब में कहा कि ईरान और अमेरिका के मध्य परोक्ष या अपरोक्ष किसी प्रकार की कोई वार्ता नहीं हो रही है और वियना में जो कुछ हो रहा है वह परमाणु समझौते के संयुक्त आयोग की बैठक के परिप्रेक्ष्य में है।

उन्होंने बल देकर कहा कि अमेरिका बेहतर तरीक़े से जानता है कि ईरान ने जो कुछ किया है वह परमाणु समझौते के परिप्रेक्ष्य में किया है और ये कार्यवाहियां केवल उसी समय रुकेंगी जब अमेरिका तेहरान के ख़िलाफ़ अपने समस्त प्रतिबंधों को समाप्त कर देगा और ईरान इसका सत्यापन कर लेगा। MM

हमारा व्हाट्सएप ग्रुप ज्वाइन करने के लिए क्लिक कीजिए

हमारा टेलीग्राम चैनल ज्वाइन कीजिए

हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब कीजिए!

ट्वीटर  पर हमें फ़ालो कीजिए

 

टैग्स